BREAKING NEWS
Hindi News

Health News

बर्लिन। रूसी अंतरिक्ष - यात्रियों पर किए गए एक विस्तृत अध्ययन से पता चला है कि अंतरिक्ष में लंबी - लंबी अवधि बिताने से न सिर्फ मांसपेशियों और हड्डियों को नुकसान होता है बल्कि दिमाग पर भी इसका गहरा असर होता है।
नई दिल्ली। भारत में प्रतिवर्ष करीब 50 लाख लोगों की मौत चिकित्सकीय लापरवाहियों की वजह से होती है और ऐसे में विशेषज्ञों का दावा है कि डॉक्टरों और अस्पतालकर्मियों के लिए एक विशेष पाठ्यक्रम से इस आंकड़े को घटाकर आधा किया जा सकता है। यह पाठ्यक्रम इस पर केंद्रित है कि गंभीर रूप से बीमार या जख्मी मरीज को किस तरह संभालना चाहिए।
नई दिल्ली। मोबाइल फोन ने जहां हमारी जिंदगी को आसान बनाया है वहीं इसके प्रयोग संबंधी उचित जानकारियों के अभाव और मोबाइल टावरों से निकालने वाले खतरनाक इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन का स्तर अंतरराष्ट्रीय मानक से कई गुणा अधिक होने के कारण हर वर्ष सैकड़ों जिंदगियां तकनीकी तरक्की की भेंट चढ़ रही हैं।
नई दिल्ली। स्तन कैंसर रोगियों के लिए राहत भरी खबर है कि अब हर रोगी को विषैली कीमोथेरेपी से गुजरने की ज़रूरत नहीं होगी और केवल उन्हीं रोगियों को कीमोथेरेपी दी जाएगी जिन्हें इसकी वाकई में जरूरत होगी और उतनी ही मात्रा में, जितनी आवश्यकता है। भारत में इस पद्धति को स्वीकृति मिलने से हज़ारों स्तन कैंसर रोगियों को फायदा होगा।
दुबई। संयुक्त अरब अमीरात के भारतीय प्रवासियों में पश्चिमी देशों में रहने वाले अपने ही मुल्क के लोगों की तुलना में लगभग एक दशक पहले हृदय रोग होने का खतरा बढ़ जाता है। एक अध्ययन में यह जानकारी सामने आई है। एस्टर हॉस्पिटल्स दुबई की ओर से किए गए अध्ययन में पाया गया है
वाशिंगटन। वैज्ञानिकों ने एक ऐसा इलेक्ट्रानिक यंत्र विकसित किया है जिसे त्वचा में लगा कर पहनने वाले व्यक्ति को भी उसके स्वास्थ्य के प्रति होने वाले संभावित खतरे के बारे में फौरन बताया जा सकता है । वहीं एथलीट व्यायाम या तैरने के दौरान अपनी सेहत की निगरानी के लिए इस तकनीक का इस्तेमाल किया जा सकता है ।
लंदन। कम्प्यूटर स्क्रीन पर हरे रंग के फिल्टर लगाने से डिस्लेक्सिया पीड़ित बच्चों को तेजी से पढ़ने में मदद मिल सकती है। अध्ययन में पाया गया है कि इन फिल्टर्स का समान उम्र के बिना डिस्लेक्सिया वाले बच्चों पर कोई असर नहीं पड़ता।
लंदन। अब महिलाएं गर्भ में पल रहे अपने बच्चे की दिल की धड़कन को घर बैठे ही नाप सकती हैं। वैज्ञानिकों ने ऐसा सेंसर बनाया है जिससे गर्भवती महिलाएं घर में ही बच्चे की दिल की धड़कनों का पता लगा सकती हैं । ब्रिटेन में ससेक्स विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने इस सेंसर को ईजाद किया है।
लंदन। एक नए अध्ययन से पता चला है कि भारत में ऑपरेशन के जरिए बच्चों को दुनिया में लाने के मामले बढ़ते जा रहे हैं। वर्ष 2005-6 से बीच यह आंकड़ा नौ प्रतिशत था जो 2015-16 में बढ़ कर 18.5 प्रतिशत पर पहुंच गया। लैंसेट जर्नल में प्रकाशित तीन शोधपत्रों से यह खुलासा हुआ है ।
अहमदाबाद। जाने माने मधुमेह विशेषज्ञ पद्मश्री डाक्टर वी मोहन, जो देश भर में इस बीमारी के आंकड़ों पर पिछले पांच वर्ष से जारी एक विस्तृत अध्ययन की अगुवाई कर रहे हैं, ने कहा कि अगले पांच साल में यानी 2023 तक भारत चीन को न केवल आबादी में पीछे छोड़ देगा बल्कि मधुमेह के रोगियों के मामले में भी उसे पीछे छोड़ कर दुनिया में ऐसे सर्वाधिक रोगियों वाला देश अथवा दुनिया की मधुमेह-राजधानी बन जाएगा।

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.