BREAKING NEWS
Hindi News

Opinion News

जीवन का शाश्वत सत्य है चलते रहना, हंसते रहना और मिलते रहना। लेकिन अफसोस की बात है कि वो इसके ठीक विपरीत रहा है।
किसानो की समस्याएं अनगिनत है। फसलों की बुवाई से लेकर उनकी सुरक्षा, उत्पादन, तैयार फसल के लिए समुचित बाजार की व्यवस्था और फसल बिकने के बाद मूल्य का समय से भुगतान इन सबकी राह में रोड़े ही रोड़े हैं। साथ में दलालों से किसानों को दो चार होना पड़ता है। गन्ना किसानों की हालत भी बाकी किसानों से अलग नहीं है।
पांच राज्यों के खासकर हिंदी भाषी तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों में जनता ने राजनेताओं को स्पष्ट संदेश दिया है कि हवा-हवाई वादों का जमीन पर भी असर दिखना चाहिए।
चरित्र कोई छोटो मोटा शब्द नहीं है, इसमें व्यक्ति के सम्पूर्ण जीवन का सार आता है, इसे केवल एक विषय की संकीर्णताओं में नहीं जकड़ा जा सकता है। इसमें व्यक्ति के शारीरिक मानसिक, भौतिक, आध्यात्मिक, सामाजिक, सार्वजनिक, व्यक्तिगत, कर्म क्षेत्र, पारिवारिक और ये सारे क्रिया क्रर्म आते है जो वह हर पल सोचना, बोलता, सुनता, देखता, करता अर्थात क्रिया प्रतिक्रिया भी शामिल होते हैं।
खूबसूरत और चटकीले रंग के खिलौनों में मिले जहर से नौनिहालों को बचाने के लिए केंद्र सरकार ने कड़े कदम उठाने की तैयारी कर ली है। सरकार सभी तरह के खिलौनों के लिए गुणवता के मानकों को अनिवार्य करने जा रही है, ताकि विदेशों से आने वाले और देश में बनने वाले खिलौनों में इस्तेमाल किए जाने वाले खतरनाक रसायनों और जहर से बच्चों को बचाया जा सके।
उर्जित पटेल के इस्तीफे के बाद रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) को उसका नया गवर्नर मिल गया है। वित्त आयोग के सदस्य शक्तिकांत दास को आरबीआई का नया चीफ बनाया गया है।
दक्षिण भारत में कोच्चि का इण्डस्ट्रियल एरिया है, यहां पर किन्फ्रा हाईटेक पार्क में एक पांच मंजिला इमारत पूरी दुनिया का ध्यान अपनी ओर बरबस खींच रही है।
पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में जनता का चुनावी फैसला तीन हिंदी भाषी राज्य और देश की हृदयस्थली राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में राष्ट्रीय दल कांग्रेस के पक्ष में रहा वहीं तेलंगाना और मिजोरम की जनता ने क्षेत्रीय दलों टीआरएस और एमएनएफ के पक्ष में मतदान किया।
विश्व की कुछ महत्त्वपूर्ण अर्थव्यवस्थाएं हाल के समय में भारी दबाव में आई हैं। अर्जेंटीना और तुर्की की अर्थव्यवस्थाएं इनमें शामिल हैं।
कहा जाता है कि भावों के विचार जन्म लेते हैं अर्थात विचारों के मूल में भावनायें ही मुख्यत: होती है फिर विचार क्रियाओं को जन्म देते है, फिर क्रियायें आदतों के रूप में विकसित होती है और अन्तत: आदतें ही जीवन का चरित्र बनती हैं जीवन का उद्देश्य बनती है और जीवन का सौन्दर्य बनती हैं।


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.