वाहन कलपुर्ज़ा उद्योग की सभी उत्पादों पर एक समान 18% जीएसटी लगाने की मांग

Samachar Jagat | Thursday, 09 Aug 2018 03:05:12 PM
Demand for putting the same 18% GST on all the products of the vehicle component industry

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

ऑटो डेस्क। वाहनों में लगने वाले कलपुर्जों पर 2017-18 में जीएसटी की दर को बढ़ा दिया गया है। इससे सभी वाहन कलपुर्जे बनाने वाली कंपनियां परेशान है। जब वाहनों में लगने वाले कलपुर्जे महंगे होंगे तो इसका सीधा असर ग्राहकों पर पड़ेगा। इससे वाहनों की कीमतें भी महंगी हो जाएगी। 1 अगस्त से सभी वाहन निर्माता कंपनियों ने अपने मॉडल की कीमतों में इजाफा किया है। उनकी कीमतें बढ़ाने के पीछे यही सबसे बड़ा कारण रहा है। इसी के चलते वाहन कलपुर्जे बनाने वाली कंपनियों के संगठन ने उद्योग के सभी उत्पादों पर एक समान जीएसटी की दर लगाने की मांग की है।

मारुति सुजुकी ने स्विफ्ट के सबसे उन्नत संस्करण में दी ऑटो गियर शिफ्ट की सुविधा

अभी कलपुर्ज़ा उद्योग के उत्पादों पर वित्त वर्ष 2017-18 में 18.3 प्रतिशत की दर से जीएसटी लगा रहा है। इस तरह बढ़कर 3.45 लाख करोड़ रुपए हो गया है। वहीं कलपुर्जा बनाने कंपनियों का कहना है सभी उत्पादों पर 18 प्रतिशत की दर से माल एवं सेवा कर लगाया जाए। उन्होंने कहा कि कम कर से बेहतर अनुपालन और कर आधार में वृद्धि होगी। बता दें कि वर्तमान में 60 प्रतिशत कलपुर्जों पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगता है जबकि शेष 40 प्रतिशत पर 28 प्रतिशत जीएसटी लगता है।

इनमें दो पहिया वाहन और ट्रैक्टर के कलपुर्जे शामिल हैं।’’ इसलिए वाहन कलपुर्जे विनिर्माता संघ का कहना है कि कलपुर्जे उद्योग पर एकसमान 18 प्रतिशत जीएसटी की मांग हमारी प्रमुख मांगों में से एक है। इसके अलावा संघ ने एक ऐसा कोष स्थापित करने की भी मांग की है जो कलपुर्जे उद्योग में प्रौद्योगिकी निर्माण और शोध एवं विकास को बढ़ावा देने वाला हो। पिछले वित्त वर्ष में उद्योग का कारोबार 18.3 प्रतिशत बढ़कर 3,45,635 करोड़ रुपए (51.2 अरब डॉलर) रहा। इस दौरान निर्यात भी 23.9 प्रतिशत बढ़कर 90,571 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।

टाटा मोटर्स की अगले पांच साल में आधुनिक प्लेटफॉर्म पर 10-12 नए मॉडल लाने की योजना

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.