इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने में लग सकता है लंबा समय: टेरी प्रमुख

Samachar Jagat | Thursday, 18 Jul 2019 10:37:23 AM
Electric vehicles may take long time to adopt: terry chief

नई दिल्ली। इलेक्ट्रिक वाहन ईंधन से चलने वाले गाड़ियों के लिए बेहतर विकल्प हो सकते हैं लेकिन सरकर का अगले 10 साल में पूरी तरह से ई-वाहन अपनाने का लक्ष्य हासिल करना मुश्किल है। द एनर्जी एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट (टेरी) ने यह बात कही है। उसने यह भी कहा है कि उपभोक्ताओं को इस बदलाव को स्वीकार करने के लिए समय की जरूरत होगी।

सरकार ने 2030 तक देश को शत प्रतिशत इलेक्ट्रिक वाहन वाला देश बनाने का लक्ष्य रखा है। हाल ही में नीति आयोग ने यह प्रस्ताव किया है कि सभी तीन-पहिया और 150 सीसी से कम दो-पहिया वाहन क्रमश: 2023 तथा 2025 से बिजली चालित होने चाहिए। हालांकि टेरी प्रमुख अजय माथुर ने पीटीआई भाषा से कहा कि देश में ई-वाहनों को वास्तविक रूप देने से पहले ग्राहकों की स्वीकार्यता तथा इच्छा जैसे प्रमुख कारकों पर पहले ध्यान दिये जाने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि यह उपभोक्ता आधारित बाजार है। इसीलिए उनकी स्वीकार्यता और इच्छा प्रमुख कारक हैं...हमें पुराने वाहनों को कबाड़ में बदलने को लेकर प्रोत्साहन, जीएसटी में कमी आदि के जरिये वाहनों को ई-वाहनों में बदलने के रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करने की जरूरत है।

माथुर ने कहा कि मुझे नहीं पता कि 2023-25 तक के लिक्ष्य का क्या आधार है। बाजार को पहले बाजार की स्वीकार्यता और उनकी इच्छा को बनाने की जरूरत है। मुझे इतनी तेजी से बदलाव होता नहीं दिखता। हालांकि उन्होंने बिजली चालित वाहनों के विचार की सराहना की। टेरी प्रमुख ने कहा कि वायु प्रदूषण नहीं फैलाने के साथ इलेक्ट्रिक वाहनों को चलाने की लागत डीजल और पेट्रोल चालित वाहनों के मुकाबले कम है। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
रिलेटेड न्यूज़
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.