जीएसटी कानून में 46 संशोधनों का प्रस्ताव

Samachar Jagat | Tuesday, 10 Jul 2018 09:26:18 AM
46 proposals amended in GST law

नई दिल्ली। नियोक्ता अपने कर्मचारियों को उपलब्ध कराए जाने वाले खाना-पीना , परिवहन और बीमा जैसी सुविधाओं पर चुकाए गए जीएसटी के लिए इन-पुट कर क्रेडिट प्राप्त कर सकेंगे। जीएसटी कानून में संशोधन के कुल 40 से अधिक प्रस्तावों में एक प्रस्ताव ऐसे प्रावधान के लिए भी किया गया है।

हर महीने बनेंगे एक करोड़ स्मार्टफोन,  पांच हजार करोड़ के निवेश से तैयार नए संयंत्र का उद्घाटन

संसद और राज्य विधानमंडलों द्वारा इसके पारित होने के बाद यह अमल में आएगा। इन-पुट कर क्रेडिट के तहत इकाई अपनी बिकी पर कर जमा कराते वक्त अपने उत्पाद को तैयार करने में प्रयुक्त संसाधनों (इन-पुट) पर लगे जीएसटी के बराबर की छूट का दावा कर सकती है। सरकार ने माल एवं सेवा कर (जीएसटी) कानून -- केंद्रीय जीएसटी , राज्य जीएसटी , एकीकृत जीएसटी और राजस्व क्षतिपूर्ति कानून में 46 संशोधन का प्रस्ताव किया है।

अन्य बातों के अलावा संशोधन में नया रिटर्न फाइलिंग नियम , पंजीकरण को रद्द करना तथा अलग - अलग व्यापार खंडों में काम कर रही कंपनियों के लिए अलग पंजीकरण और एकमुश्त डेबिट : क्रेडिट नोट शामिल हैं। सरकार ने जीएसटी कानून में संशोधन को 15 जुलाई 2018 तक संबंधित पक्षों की प्रतिक्रिया मांगी है।

राजस्व विभाग द्वारा संशोधन को अंतिम रूप दिए जाने के बाद उसे जीएसटी परिषद के समक्ष रखा जाएगा। उसके बाद जीएसटी कानून में संशोधन को लेकर उसे संसद और  राज्य विधानमंडलों में पेश किया जाएगा।

अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध से भारत पर पड़ेगा यह असर

संशोधन मसौदा के तहत नियोक्ताओं के लिए अगर किसी कानून के तहत कर्मचारियों को खाना-पीना , स्वास्थ्य सेवाएं , जीवन बीमा , यात्रा लाभ किराया या मोटर वाहन को किराए पर लेने की बाध्यता है तो वह इनपुट टैक्स क्रेडिट प्राप्त कर सकेंगे।

संशोधन के तहत ई - वाणिज्य कंपनियों का सालाना कारोबार 20 लाख रुपए से कम है तो जीएसटी के तहत पंजीकरण की आवश्यकता नहीं है और उन्हें धारा 52 के तहत स्रोत पर कर कटौती की जरूरत नहीं है। सरकार ने संशोधन के पीछे कारण बताते हुए कहा कि यह करदाताओं के अनुकूल उपाय है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.