किराया बहुत ज्यादा न बढ़ाएं एयरलाइंस: डीजीसीए

Samachar Jagat | Tuesday, 16 Apr 2019 06:16:09 PM
Airlines do not raise fares too much: DGCA

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने विमान सेवा कंपनियों को निर्देश दिया है कि वे माँग बढने के बावजूद किराया बहुत ज्यादा न बढ़ाएं। नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने मंगलवार सुबह नागर विमानन सचिव प्रदीप सिंह खरोला को निर्देश दिया था कि वे वित्तीय संकट से गुजर रही निजी विमान सेवा कंपनी जेट एयरवेज से जुड़े मुद्दों की समीक्षा करें।

Loading...

उनसे विशेष रूप से इस बात पर ध्यान देने के लिए कहा गया था कि बाजार में क्षमता कम होने के कारण अन्य एयरलाइंस किराया बहुत ज्यादा न बढ़ाएं और यात्रियों को कम से कम परेशानी हो। डीजीसीए ने बताया कि उसने विभिन्न विमान सेवा कंपनियों के साथ आज एक बैठक की। इसमें उनसे कहा गया कि वे अपने-अपने स्तर पर स्थिति की निगरानी करें और नियामक को इसके बारे में सूचित करें ताकि किराए यथासंभव कम रखे जा सकें।

एयरलाइंस के अधिकारियों ने डीजीसीए को बताया कि उन्होंने उच्चतम किराए वाले स्लॉटों में बिक्री बंद कर दी है और यात्रियों को कम किराये वाले स्लॉटों में टिकट दे रहे हैं। डीजीसीए ने कहा है कि वह दैनिक आधार पर विभिन्न मार्गों पर किराये में आ रहे उतार-चढ़ाव पर नजर रखेगा और विमान सेवा कंपनियों के साथ मिलकर नियमित आधार पर उचित कदम उठायेगा।

नियामक विशेष रूप से उन मार्गों पर किराए की निगरानी करता है जहाँ बोझ ज्यादा है या यातायात के अन्य साधन नहीं हैं या मुश्किल हैं। कुछ महीने पहले तक रोजाना औसतन 600 उड़ानों का परिचालन करने वाली जेट एयरवेज की उड़ानों की संख्या सिमट कर मंगलवार को 41 रह गई। बड़ी संख्या में जेट एयरवेज की उड़ानें रद्द होने से अचानक बाजार में क्षमता की किल्लत हो गई है।

नकदी की कमी और लगातार नुकसान के कारण विमान किराए पर देने वाली कंपनियों ने जेट एयरवेज से विमान वापस ले लिए हैं। कंपनी कर्मचारियों को वेतन नहीं दे पा रही है। बैंकों का कर्ज नहीं चुकाने के कारण ऋणदाताओं ने समाधान प्रक्रिया के तहत उसकी 75 प्रतिशत तक हिस्सेदारी बेचने के लिए बोली प्रक्रिया शुरू कर दी है। 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.