बांग्लादेश भारत से बिजली आयात 700 मेगावाट बढ़ाकर 10,000 मेगावाट करने पर कर रहा विचार

Samachar Jagat | Saturday, 18 Aug 2018 12:12:56 PM
Bangladesh is considering expanding the power import from India by 700 MW to 10,000 MW

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

कोलकाता। बांग्लादेश दीर्घकालीन स्तर पर भारत से बिजली आयात बढ़ाने पर विचार कर रहा है। बिजली आयात 10,000 मेगावाट तक बढ़ाया जा सकता है। फिलहाल पड़ोसी देश करीब 700 मेगावाट बिजली का आयात कर रहा है। यह बढ़ोतरी काफी अधिक होगी। पावर ग्रिड कारपोरेशन ऑफ बांग्लादेश के चेयरमैन अब्दुल कलाम आजाद ने यह कहा। आजाद ने कहा कि बांग्लादेश में बिजली क्षमता पिछले 10 साल में पांच गुना बढ़ी है। उद्योग मंडल सीआईआई द्बारा आयोजित ऊर्ज़ा सम्मेलन, 2018 के दौरान अलग से बातचीत में उन्होंने कहा, ''हम फिलहाल भारत से करीब 700 मेगावाट बिजली का आयात कर रहे हैं।

गैर-कोयला खनिज ब्लॉक अन्वेषण में निजी क्षेत्र की भागीदारी बढ़ाने पर काम कर रही है सरकार

400 केवीए की और पारेषण लाइन पूरा होने के साथ जल्दी ही 500 मेगावाट अतिरिक्त बिजली का आयात शुरू होगा।’’आजाद ने कहा कि दामोदर घाटी निगम (डीवीसी) 300 मेगावाट बिजली का निर्यात बांग्लादेश को करेगा। यह निर्यात संभवत: अगले महीने से होगा। उन्होंने कहा, ''हमने अलग से बने पारेषण लाइन के जरिए 600 से 800 मेगावाट बिजली के आयात के लिए भारत की निजी क्षेत्र की बिजली कंपनी के साथ समझौता किया है।

सौर बिजली संयंत्र के जरिए बैटरी चार्जिंग कारोबार में कदम रखने जा रही है गेल इंडिया

हमें कई अन्य भारतीय बिजली उत्पादक कंपनी से प्रस्ताव मिले हैं। वे बांग्लादेश को बिजली बेचने के लिए अलग से पारेषण लाइन बिछाने को इच्छुक हैं।’’ पावर ग्रिड कारपोरेशन के चेयरमैन ने कहा कि हमारा 2041 तक भारत से 10,000 मेगावाट बिजली आयात का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि भारत के मानव संसाधन विभाग मंत्रालय से बांग्लादेश में बिजली विभाग के कर्मचारियों को प्रशिक्षण देने के मामले में समर्थन मिल रहा है।- एजेंसी

नोटबुक की मजबूत मांग से पीसी बाजार में रही तेजी, जून तिमाही में 28% बढ़ा

नोटबंदी, जीएसटी से लघु उद्योगों के कर्ज, निर्यात में गिरावट, इस साल दिखा सुधार : RBI

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.