बैंकों को वित्त पोषण से पहले आभूषण क्षेत्र को समझना चाहिए: प्रभु

Samachar Jagat | Saturday, 12 May 2018 03:06:01 PM
Banks should understand jewelery sector before financing: prabhu

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

मुंबई। वाणिज्य और उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा है कि रत्न और आभूषण उद्योग रोजगार सृजन का एक प्रमुख स्रोत है। इस वजह से इसके लिए ऐसी बैंकिग प्रणाली की आवश्यकता है जो इस क्षेत्र को समझता हो और जो बगैर कोई जोखिम उठाए इस क्षेत्र के विकास को समर्थन प्रदान करे। उन्होंने बैंकों से किसी भी संभावित धोखाधड़ी से बचने के लिए उचित जोखिम बचाव तंत्र स्थापित करने का आग्रह किया। 

ओली ने की पुराने नोट बदलने की सुविधा की मांग

प्रभु ने रत्न और आभूषण निर्यात संवर्धन परिषद (जीजेईपीसी ) द्बारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, सोना, रत्न एवं आभूषण और हीरे का कारोबार भारत में बड़े रोजगार के अवसर प्रदान करता है। हम एक बैंकिग प्रणाली चाहते हैं जो व्यापार को सही तरीके से समझती है। बैंकों को कोई भी बेमतलब का जोखिम नहीं लेना चाहिए। 

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने मार्च में पंजाब नेशनल बैंक में 13,000 करोड़ रुपए के नीरव मोदी घोटाले के बाद व्यापार वित्तपोषण के लिए व्यापक रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले गारंटी पत्र ( एलओयू ) और आश्वासन पत्र ( एलओसी ) पत्र जारी करने पर रोक लगा दी है जिसके बाद रत्न एवं आभूषण क्षेत्र वित्त पोषण की समस्या का सामना कर रहा है। 

नायडू ने पेरू के राष्ट्रपति से मुलाकात कर व्यापार, द्विपक्षीय सहयोग पर चर्चा की

प्रभु ने कहा कि सरकार किसी भी ऐसी व्यावसायिक गतिविधि का समर्थन नहीं करेगी जो नैतिक न हो और बैंक के योग्य नहीं हो। पीएनबी धोखाधड़ी की ओर इशारा करते हुए वाणिज्य सचिव रीता तेवतिया ने कहा कि बैंकों तथा रत्न एवं आभूषण क्षेत्र को आत्मनिरीक्षण करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा, बैंकिग क्षेत्र को यह भी जानना चाहिए कि इस विफलता का कारण वास्तव में हमारी खुद की बैंकिग प्रणाली की विफलता थी।-एजेंसी 

डेटा लीक मामले में नोटिस: फेसबुक ने दिया जवाब, कैंब्रिज एनालिटिका का इंतजार

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.