चिलर पर भी लगेंगे बिजली बचत के सितारे

Samachar Jagat | Saturday, 15 Sep 2018 09:31:07 AM
Chillar will also take power saving stars

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। बिजली मंत्रालय ने शुक्रवार को चिलर प्लांट को ऊर्ज़ा दक्ष बनाने का महत्वकांक्षी कार्यक्रम शुरू किया। वाणिज्यिक भवनों में यह चिलर प्लांट कुल ऊर्ज़ा का 40 प्रतिशत तक खपत करते हैं। चिलर स्टार लेबलिग कार्यक्रम को ऊर्ज़ा दक्षता ब्यूरो (बीईई) ने तैयार किया है।

इस कार्यक्रम के तहत ऊर्ज़ा खपत के आधार पर इन्हें स्टार रेटिग दी जाएगी। आरंभ में ये कार्यक्रम स्वैच्छिक आधार पर शुरू किया गया है और यह 31 दिसंबर, 2020 तक मान्य रहेगा। बिजली मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि चिलर से जुड़े स्टार लेबलिग कार्यक्रम से ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन में कमी होने के साथ-साथ वर्ष 2019 में 50 करोड़ यूनिट से भी अधिक बिजली की बचत होगी।

मंत्रालय की ऊर्ज़ा दक्ष चिलर प्रणाली के उपयोग को बढ़ावा देने की योजना है जिसका उपयोग औद्योगिक प्रसंस्करण में होता है। इस कार्यक्रम की शुरूआत करते हुए बिजली सचिव ए के भल्ला ने 'स्पेस एवं प्रोसेस कूलिग’ क्षेत्र में ऊर्ज़ा दक्षता को बेहतर करने की जरूरत पर विशेष बल दिया। 

उन्होंने कहा कि इस पहल से केंद्रीय एचवीएसी (ताप, वेंटिलेशन और वातानुकूलन) से जुड़ी प्रौद्योगिकी को बढ़ावा मिलेगा और इसके साथ ही व्यापक वाणिज्यिक एवं औद्योगिक क्षेत्र में उपयोग के लिए कम ऊर्ज़ा खपत वाले समाधानों का पता लगाने में सुविधा होगी।

उल्लेखनीय है कि 24वें विश्व ओजोन दिवस और 16 सितंबर, 2018 को मनाई जाने वाली मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल की 31वीं वर्षगांठ के मौके पर ऊर्ज़ा दक्षता के इस कार्यक्रम की शुरूआत की गई। चिलर का व्यापक उपयोग भवनों में वातानुकूलन और औद्योगिक प्रक्रिया से जुड़ी कूलिग में किया जाता है। भारतीय चिलर बाजार का आकार वर्ष 2017 में 10 लाख टन सालाना था। इसके संचयी आधार पर सालाना 3.6 प्रतिशत की दर से बढ़ने का अनुमान लगाया गया है। 

बयान के अनुसार चिलर संयंत्र को ऊर्ज़ा गहन प्रणाली माना जाता है। वाणिज्यिक भवनों में 40 प्रतिशत से भी अधिक ऊर्ज़ा की खपत चिलर ही करते हैं। इसे ध्यान में रखते हुए चिलर ऊर्ज़ा की खपत कम करना और इसके इस्तेमालकर्ताओं के बीच जागरूकता पैदा करना है, ताकि लोग कम ऊर्ज़ा खपत वाले चिलर का इस्तेमाल करने के लिये प्रेरित हों।

बीईई ने इस पहल के तहत आसान एवं त्वरित मंजूरी के लिए एक ऑनलाइन पंजीकरण प्लेटफॉर्म विकसित किया है। निर्मातागण चिलर उपकरण की उपयुक्त स्टार रेटिग से लाभ उठाने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करा सकते हैं। 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.