एटीएम शुल्कों की समीक्षा के लिए समिति का हुआ गठन, दो महीने में सौंपनी होगी रिपोर्ट

Samachar Jagat | Wednesday, 12 Jun 2019 02:49:35 PM
Committee constituted for review of ATM charges

मुंबई। एटीएम और उसके इस्तेमाल से जुड़े सभी प्रकार के शुल्कों की समीक्षा के लिए रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने एक छह सदस्यीय समिति बनाई है जो दो महीने में अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। केंद्रीय बैंक ने बताया कि इंडियन बैंक्स एसोसिएशन के मुख्य कार्यकारी वी.जी. कन्नन समिति के अध्यक्ष होंगे। उनके अलावा भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) दिलिप असबे, भारतीय स्टेट बैंक के मुख्य महाप्रबंधक गिरि कुमार नायर, एचडीएफसी बैंक के समूह प्रमुख (देनदारी से संबद्ध उत्पाद) एस. संपत कुमार, एटीएम उद्योग परिसंघ के निदेशक के. श्रीनिवासन और टाटा कम्युनिकेशनन्स पेमेंट सॉल्यूशंस के सीईओ संजीव पटेल को समिति का सदस्य बनाया गया है। 

जनवरी 2020 से लागू होगा नया जीएसटी रिटर्न फॉर्म

आरबीआई ने मौद्रिक समीक्षा समिति की बैठक के बाद 06 जून को जारी 'विकासशील एवं नियमाक नीति बयान’ में इस समिति के गठन की बात कही थी। उसने बताया था कि लोगों द्बारा एटीएम का इस्तेमाल बहुत तेजी से बढ़ रहा है और एटीएम शुल्कों में बदलाव की मांग बार-बार की जा रही है। इस मुद्दे पर, सभी हितधारकों को शामिल करते हुए, एक समिति बनाने का फैसला किया गया था जो एटीएम से जुड़े सभी प्रकार के शुल्कों की समीक्षा करेगी।

रिजर्व बैंक ने यस बैंक और जिपकैश पर लगाया जुर्माना

आरबीआई ने बताया कि समिति की पहली बैठक के दो महीने के भीतर वह अपनी अनुशंसाएं सौंप देगी। उसे एटीएम ट्रांजेक्शन से संबंधित लागत, शुल्कों तथा इंटरचेंज शुल्क की समीक्षा, एटीएम के इस्तेमाल के पैटर्न और शुल्कों पर उसके प्रभाव की समीक्षा की जिम्मेदारी दी गई है। समिति एटीएम से जुड़े सभी पहलुओं का आंकलन करेगी और अपने सुझाव देगी। -एजेंसी

मोदी सरकार ने वर्ष 2014 से उद्योग आधारित कई पहल की हैं जिससे कारोबारी माहौल में सुधार हुआ है: सीतारमण



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.