ऋण वृद्धि अभी व्यापक नहीं, लघु उद्यमों के मामले में यह हल्की है : दास

Samachar Jagat | Thursday, 04 Apr 2019 03:08:59 PM
Debt growth is not yet widespread, in case of small enterprises it is light: Das

मुंबई।  भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकान्त दास ने कहा है कि इस समय ऋण की वृद्धि 14 प्रतिशत के स्तर पर काफी अच्छी दिखती है लेकिन इस वृद्धि का आधार व्यापक नहीं है। उन्होंने कहा कि सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रमों (एमएसएमई) को ऋण में वृद्धि मंद है। मौद्रिक नीति समीक्षा के बाद परंपरागत संवाददाता सम्मेलन में दास ने कहा कि ऋण की वृद्धि काफी महत्वपूर्ण है लेकिन एमएसएमई क्षेत्र के लिए यह ठहरी हुई है। 

मौद्रिक नीति समिति के प्रस्ताव में कहा गया है कि सूक्ष्म एवं लघु के अलावा मझोले उपक्रमों के लिए ऋण का प्रवाह सुस्त है लेकिन बड़े उद्योगों के लिए इसमें सुधार हुआ है। भारतीय रिजर्व बैंक ने बृहस्पतिवार को चालू वित्त वर्ष की पहली द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा में नीतिगत दरों में 0.25 प्रतिशत की कटौती की है। दास ने कहा कि रिजर्व बैंक वृहद आर्थिक कारकों पर निगाह रखेगा और उस पर समयबद्ध तरीके से कदम उठाएगा। एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.