डिजिटल कारोबार 2018 में 2.37 लाख करोड़ का होगा : आईएएमएआई

Samachar Jagat | Friday, 14 Sep 2018 01:33:24 PM
Digital business will be 2.37 lakh crore in 2018: IAMAI

नई दिल्ली। इंटरनेट और मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (आईएएमएआई) ने कहा कि इस वर्ष दिसंबर के अंत तक 2018 तक भारत में डिजिटल व्यापार 2.37 लाख करोड़ रुपए तक पहुंचने की उम्मीद है जिसकी वजह यात्रा, ई-कॉमर्स और उपयोगिता सेवा जैसे क्षेत्रों में अच्छी वृद्धि का होना होगा। इस औद्योगिक निकाय ने आईएमआरबी कंटार के साथ अपनी रिपोर्ट में कहा है कि वर्ष 2011 से 2017 के बीच डिजिटल व्यापार साल दर साल 34 फीसदी की दर से बढ़ा। दिसंबर 2017 को समाप्त वर्ष में 2.04 लाख करोड़ रुपए था। रिपोर्ट में कहा गया है, ’’ इस वर्ष दिसंबर 2018 तक यह 2,37,124 करोड़ रुपए तक पहुंचने का अनुमान है।’’

एलपीजी/सीएनजी-पेट्रोल दोनों से चलने वाले स्कूली वाहन प्रतिबंधित

रिपोर्ट के अनुसार, इस वृद्धि में ऑनलाइन यात्रा उद्योग का डिजिटल वाणिज्य बाजार की 54 प्रतिशत हिस्से (1.10 लाख करोड़ रुपए) की हिस्सेदारी है। यात्रा श्रेणी के भीतर, घरेलू हवाई टिकट और रेलवे बुकिंग शीर्ष योगदानकर्ताओं में रही है, जबकि बस / कैब बुकिंग का योगदान 5,174 करोड़ रुपए का है। गैर-यात्रा खंड में, ई-टेल का योगदान 73,845 करोड़ रुपए का है जिसके बाद उपयोगिता सेवाओं का योगदान 10,201 करोड़ रुपए और शादीविवाह और वर्गीकृत का योगदान 3,68 9 करोड़ रुपए का है। अन्य ऑनलाइन सेवा बाजार - जिसमें मनोरंजन, ऑनलाइन किराने और ऑनलाइन खाद्य वितरण के लिए ऑनलाइन बुकिंग शामिल है - 6,060 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है।

प्रभु ने भारत में कारोबार के अवसर तलाशने के लिए रूसी कंपनियों को आमंत्रित किया

इसमें कहा गया है, ’’ऑनलाइन किराने की डिलीवरी इस खंड में 2,200 करोड़ रुपए के बाजार मूल्य के साथ शीर्ष योगदानकर्ता है। यह पूरा का पूरा खंड दिसंबर 2018 में 7,800 करोड़ रुपए हो जाने की उम्मीद है।’’ रिपोर्ट में कहा गया है कि शहरी भारत में दिसंबर 2017 को 29.5 करोड़ लोग ऑनलाइन थे। मोबाइल इंटरनेट सेवाओं के मूल्य में तेज गिरावट के साथ ऑनलाइन उपयोगकर्ताओं की संख्या और ऑनलाइन गतिविधि और जुड़ाव के स्तर में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि ’’इंटरनेट के विकास ने विभिन्न ऑनलाइन कारोबार के अवसर तैयार किये हैं और डिजिटल शॉपिंग ऐसा एक ऐसा क्षेत्र है जहां गतिविधि और संलग्नता स्तर में वृद्धि देखी गई है। बाद में भारतीय शॉपिग का पूरा तंत्र भारी बाधाओं का सामना कर रहा है।’’ हालांकि खरीदारी की पारंपरिक पद्धति अभी भी मजबूत है, डिजिटल मीडिया का उपयोग करके खरीद फरोख्त भारतीय ग्राहकों में तेजी से जोर पकड़ रहा है।- एजेंसी

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.