अस्तित्व बचाने के लिए जूझ रहा है देश-विदेश में विख्यात रटौल आम

Samachar Jagat | Monday, 12 Mar 2018 11:53:38 AM
Famous Rattles mango in country and abroad is grappling with survival

बागपत। बढ़ते प्रदूषण और प्रशासन की उपेक्षा के चलते देश विदेश में विख्यात करीब 13 हजार हेक्टेयर में फैला उत्तर प्रदेश के बागपत का रटौल आम आज अपने अस्तित्व बचाने के लिए जूझ रहा है। प्रशासन की उपेक्षा के चलते आम उत्पादक किसानों का मोह अब आम की फसल से भंग हो रहा है। 

Air India को मिला 23 वां बोइंग-777 विमान, सौदा हुआ पूरा

यहां के बागवान और किसान आम की फसल को छोड़कर दूसरी फसल की ओर रुख करने को मजबूर है। रटौल निवासी पूर्व जिला पंचायत सदस्य एवं ग्राम प्रधान पति डा. जाकिर हसन के अनुसार करीब दो दशक पहले रटौल गांव और उसके आसपास के करीब 13 हजार हेक्टेयर भूमि पर आम के बाग थे। 

कोका कोला के आधे से ज्यादा उत्पाद अब देसी होंगे

बागपत जिला बनने के बाद रटोल आम का कुछ हिस्सा गाजियाबाद में मोदीनगर इलाके के खिदौड़ा, पतला और निवाड़ी आदि गांव तक फैला है। तेजी से बढ़ती आबादी के चलते सिमटते सिमटते मात्र दो हजार हेक्टेयर से भी कम क्षेत्र में आम के बाग रह गए हैं। 

दूध उत्पादन तीन साल में 20' बढक़र 16.54 करोड़ टन हुआ: कृषि मंत्री

आम के बाग रटौल गांव के अलावा मुबारकपुर,बड़ागांव, गौना आदि गांव के आसपास थे। आज हालात यह है कि आम की फसल शत प्रतिशत समाप्ति के कगार पर है। क्योंकि जो पेड़ बचे हैं उन पर भी बोर तो आता है लेकिन बढ़ते प्रदूषण और ईंट भट्टों के कारण आम न के बराबर ही आते हैं।-एजेंसी 

एयर इंडिया के लिए बोली लगाएगा जेट एयरवेज, एयर फ्रांस-केएलएम, डेल्टा का गठजोड़



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.