सरकारी मदद बैंकों को पूंजीगत राहत तो देगी, लेकिन उन पर दबाव बना रहेगा: मूडीज

Samachar Jagat | Tuesday, 21 Aug 2018 05:12:02 PM
Government help will provide capital relief to banks, but pressure will remain on them: Moody's

नई दिल्ली। चालू वित्त वर्ष में सरकारी बैंकों को अधिक पूंजी समर्थन देने की सरकार की योजना के बारे में मूडीज इंवेस्टर्स सर्विस का कहना है कि इससे बैंकों को अपनी पूंजी पर्याप्तता को बहाल करने और ऋण घाटे को पाटने में मदद तो मिल जाएगी लेकिन उन पर दबाव बना रहेगा।

नीति आयोग ने पिछड़ा जिला कार्यक्रम में निजी क्षेत्र की और भागीदारी का आह्वान किया

सरकार की वित्त वर्ष 2018-19 के अंत तक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को 65,000 करोड़ रुपये तक की नयी पूंजी उपलब्ध कराने की योजना है। इससे पिछले वित्त वर्ष में सरकार ने बैंकों में 90,000 करोड़ रुपये की पूंजी डाली थी। इस 65,000 करोड़ रुपये से सरकार ने जुलाई में पांच बैंकों को 11,300 करोड़ रुपये की पूंजी उपलब्ध करायी थी।

मूडीज की उपाध्यक्ष और वरिष्ठ ऋण अधिकारी अल्का अंबरासु ने कहा कि बड़े पैमाने पर बैंकों में पूंजी डालने की सरकारी योजना अब सिर्फ बैंकों की पूंजीगत हालत को ही ठीक करेगी, जो उन्हें नियामकीय ढांचे के तहत पर्याप्त पूंजी बनाए रखने में ही मदद कर सकती है, क्योंकि बैंकों में पूंजी की कमी सरकार के शुरूआती अनुमान से बहुत अधिक बढ़ चुकी है।

सलमान खान की फिल्म भारत में दिशा पटानी का होगा ये किरदार, इंटरनेशनल लेवल पर की जा रही है तैयारी

जबकि सरकार की योजना इसके माध्यम से बैंकों में पूंजी आधिक्य बनाना और उसकी हालत बेहतर करना था। साथ ही उनके ऋण घाटे को कम करना और ऋण वितरण को बढ़ाने का भी लक्ष्य था। हालांकि मूडीज ने स्पष्ट किया कि चालू वित्त वर्ष के बाद बैंकों की पूंजी की बाहरी जरूरत नहीं होगी क्योंकि उनके लाभ में धीरे-धीरे सुधार होगा।- एजेंसी

बैंक समूह के जरिए कर्ज देने के मामलों में कमी लाने की जरूरत: एसबीआई प्रमुख

'मूवहैक’ 2018 में आए 20 से अधिक देशों से 7,500 आवेदन, परिवहन से जुड़ी समस्याओं का होगा समाधान



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.