नोट बदलने की सुविधा धीरे धीरे बंद कर सकती है सरकार

Samachar Jagat | Friday, 18 Nov 2016 09:30:24 PM
नोट बदलने की सुविधा धीरे धीरे बंद कर सकती है सरकार

नई दिल्ली। सरकार नोटबंदी के बाद पुराने नोटों को बदलकर नए नोट लेने की सुविधा को धीरे धीरे बंद कर सकती है। ऐसे नोट रखने वालों से अपनी राशि सीधे बैंक खातों में जमा करवाने को कहा जा सकता है। सरकार फिलहाल ऐसा सोच रही है।

सूत्रों ने कहा कि बाजार में नकदी उपलब्धता का इच्छित स्तर हासिल होने के मद्देनजर सरकार इस बारे में विचार कर रही है। नोट बदने की सुविधा तो बाजार में नकदी उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए दी गई थी।

एक अधिकारी ने कहा कि हम नोटबंदी के बाद बाजार में लगभग 60 प्रतिशत नकदी उपलब्धता बनाए रखना चाहते थे जिसे पहले ही हासिल कर लिया गया है। बाकी उपलब्धता सुनिश्चित होने के दौरान नोट बदलने की सुविधा को चरणबद्ध तरीके से बंद किया जा सकता है।’

सूत्रों ने कहा कि सरकार इंतजार कर रही है कि पहले नए नोट प्रणाली में चलन में आए। प्रणाली में नये नोट पर्याप्त संख्या में चलन में आने पर नोट बदलने की सुविधा समाप्त की जा सकती है।

फिलहाल कोई व्यक्ति अधिकतम 2000 रुपए तक के नोट बदलवा सकता है।

उल्लेखनीय है कि सरकार ने 8 नवंबर को नोटबंदी यानी 500 व 1000 रुपए के मौजूदा नोटों को चलन से बाहर करने की घोषणा की थी। तब सरकार ने लोगों से कहा था वे 9 नवंबर से 30 दिसंबर तक अपने पुराने नोट या तो बैंकों में जमा करवा दें या उन्हें नये नोटों से बलवा लें।

पहले कोई व्यक्ति अधिकतम 4000 रुपए प्रतिदिन नोट बलवा सकता था। बाद में इसे बढ़ाकर 4500 रुपए प्रति दिन किया गया लेकिन सरकार ने गुरुवार को घटाकर 2000 रुपए प्रति व्यकित कर दिया। इसके साथ ही 30 दिसंबर तक नोट केवल एक बार ही बदलवाए जा सकेंगे।

अधिकारियों का कहना है कि कुछ लोग अपने कालेधन को वैध बनाने के लिए इस सुविधा का दुरुपयोग कर रहे हैं। यही कारण है कि सरकार ने नोट बदलवाने वाले की अंगुली पर अमिट स्याही लगाने का फैसला इसी सप्ताह किया ताकि एक ही आदमी बार बार नोट बदलवाने के लिए नहीं आए।

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.