कर्ज में फंसी इस्पात कंपनियों में से आधे का हो जाएगा निस्तारणः एनसीएलटी

Samachar Jagat | Tuesday, 15 May 2018 11:46:34 AM
Half of steel companies stuck in debt will be settled: NcLT

मुंबई। कर्ज लौटाने में नाकाम इस्पात कंपनियों के खिलाफ राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण ( एनसीएलटी ) में चल रहे दिवाला शोधन मामलों में इस क्षेत्र में फंसे आधे से अधिक कर्ज का निपटारा हो जाने की उम्मीद है। इस्पात क्षेत्र पर कुल 3.26 लाख करोड़ रुपए बकाया है। इससे इस्पात क्षेत्र को मजूबती मिलने की उम्मीद है। 

टर्बो इंजन के साथ पेश हुई फॉक्सवैगन गोल्फ GTI TCR

फंसी संपत्तियों की समाधान प्रक्रिया के तहत रिजर्व बैंक ने पहले चरण में इस क्षेत्र की कुछ कंपनियों के मामलों को एनसीएलटी के पास भेजा है। इन कंपनियों की कच्चा इस्पात क्षमता करीब 2.2 करोड़ टन है। रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि इन मामलों के समाधान से भारतीय इस्पात क्षेत्र के परिदृश्य में बदलाव आएगा क्योंकि 3.26 लाख करोड़ रुपए के कुल बकाया में से आधे से अधिक को सुलझा लिया जाएगा। 

जानिएं गाड़ियों के रंग-बिरंगी नंबर प्लेट का राज

यही नहीं इन कंपनियों के जरिए देश के कच्चे इस्पात क्षमता का पांचवां हिस्सा मजबूत हाथों में पहुंच जाएगा। इसके परिणामस्वरूप कंपनियों के पास बेहतर कार्यशील पूंजी और तरलता प्रबंधन की सुविधा होगी। देश के इस्पात क्षेत्र पर वर्तमान में छह कंपनियों का दबदबा है, जिनकी कुल क्षमता में हिस्सेदारी 85 प्रतिशत है। शेष क्षमता विभिन्न छोटी कंपनियों में बंटी हुई है। रिपोर्ट के मुताबिक, इन छह कंपनियों में से तीन समाधान प्रक्रिया के पहले चरण में है और बड़ी एवं विदेशी इस्पात कंपनियों की इन पर नजर है। -एजेंसी

रोल्स रॉयस की एसयूवी Cullinan में दी गई है कॉकटेल टेबल



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.