हांगकांग के बैंकिंग विनियामक ने पीएनबी-आईओबी की शाखाओं की निगरानी बढ़ाई

Samachar Jagat | Thursday, 14 Jun 2018 08:15:47 AM
Hong Kong's banking regulator has increased the monitoring of branches of PNB-IOB

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) और इंडियन ओवरसीज बैंक (आईओबी) की हांगकांग स्थित शाखाओं की हांगकांग मौद्रिक प्राधिकरण (एचकेएमए) ने बैंक की पूंजी की स्थिति को देखते हुए निगरानी बढ़ा दी और कहा कि वह ग्राहकों से अपने यहां धन जमा आकर्षित करने की सक्रियता न दिखाए।

आरकॉम में कर्मचारियों की संख्या 94 प्रतिशत घटी, सिर्फ रह गए इतने ही कर्मचारी 

पीएनबी और आईओबी ने शेयर बाजार को बताया, ’’31 मार्च 2018 को बैंक की पूंजी स्थिति को ध्यान में रखते हुए एचकेएमए ने हमारी हांग कांग शाखा की निगरानी व्यवस्था में वृद्धि की है। हमारे पास अपना पूंजी का स्तर भारतीय रिजर्व बैंक के नियामकीय निर्देशों के हिसाब से कम है।’’ घोटाले की मार झेल रहे बैंक ने कहा कि पीएनबी की हांगकांग शाखा को हांग कांग में उच्च गुणवत्ता वाली तरल परिसंपत्तियां रखने की आवश्यकता है, जो कि बिना बंधक वाली 100 प्रतिशत जमा के बराबर है।

अब व्यापार मुद्दों को इस तरह से सुलझाएंगे भारत और अमेरिका, दोनों देश हुए राजी

पीएनबी ने यह भी कहा निगरानी व्यवस्था के तहत उसकी हांगकांग शाखा ग्राहकों से धन जमा करने के लिए अपनी ओर से प्रोत्साहित नहीं कर सकती है। हालांकि वाणिज्यिक कर्ज के लिए बिना बंधक जमा हासिल करने जैसे कारोबार पर रोक नहीं है। आईओबी ने कहा कि उसकी हांग कांग स्थित शाखाएं भारत से लायी गयी राशि से परिचालन करती हैं अत : एचकेएमए की नियामकीय जरूरतों से बैंक की स्थिति पर कोई फर्क नहीं पड़ता है।

बता दें कुछ महिनों पहले पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) 13,000 करोड़ रुपए से अधिक के घोटाला हुआ था। जिसका अारोपी नीरव मोदी बताया जा रहा है।

शराब और पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में नहीं लाए केंद्र: तेलंगाना वित्त मंत्री 

दूरसंचार की सफलता की गाथा जारी रहे यह सुनिश्चित करेगी सरकार: सिन्हा

सेबी ने भारतीय कंपनियों को विदेशी शेयर बाजारों में सीधे सूचीबद्धत की छूट देने का प्रस्ताव किया

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.