एमएसपी वृद्धि से शेयर बाजार में लौटी बहार

Samachar Jagat | Wednesday, 04 Jul 2018 04:32:38 PM
Increase in stock market by MSP growth

मुंबई। सरकार के अधिकांश कृषि उत्पादों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में भारी बढोतरी करने के निर्णय से ऑटो, एनर्जी, हेल्थकेयर, रोजमर्रा की उपभोक्ता वस्तुओं और बैंङ्क्षकग आदि समूह में बुधवार को हुई जोरदार लिवाली से शेयर बाजार में दो दिनों से जारी गिरावट पर ब्रेक लग गया और सेंसेक्स एवं निफ्टी करीब दो सप्ताह के उच्चतम स्तर पर पहुंच गये।

रोजगार पर गडकरी बोले, मेरे विभागों ने एक करोड़ युवाओं को दी नौकरी

बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 266.80 अंक बढ़कर 35645.40 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 70 अंक उठकर 10769.90अंक पर रहा। दिग्गज कंपनियों में जहां लिवाली को जोर अधिक दिखा वहीं मझौली कंपनियां गिरावट से नहीं उबर सकी और छोटी कंपनियों में कुछ कम लिवाली हुयी। इससे बीएसई का मिडकैप 0.17 प्रतिशत फिसलकर 15415.26 अंक पर रहा जबकि स्मॉलकैप 0.38 फीसदी चढ़कर 16050.59 अंक पर रहा।

सरकार ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम बढ़ाते हुये खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में ऐतिहासिक वृद्धि करते हुए धान सामान्य का एमएसपी 200 रुपये प्रति क्विंटल जबकि मूंग की कीमत में 1400 रुपये और सूरजमुखी की कीमत में 1288 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि की गयी है।

भारत के लिए प्रौद्योगिकी क्रांति की अगली कतार में आने का मौका है 5जी: सिन्हा

ज्वार की एमएसपी में पिछले साल की कीमत की तुलना में 730 रुपये प्रति क्विंटल ,बाजरे में 525 रुपये, मक्का में 275 रुपये और कपास के एमएसपी में 1130 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि की गई है। रागी का एमएसपी 997 रुपये प्रति क्विंटल, तिल का 949 रुपये, रामतिल का 1827 रुपये, सोयाबीन का 349 रुपये, मूंगफली में 440 रुपये अरहर का 225 रुपये और उड़द का एमएसपी प्रति क्विंटल 200 रुपये बढाया गया है।

इस बढोतरी के बाद धान का एमएसपी 1750 रुपये प्रति क्विंटल, तिल का 6249 रुपये, उड़द का 5600 रुपये तथा सोयाबीन का 3399 रुपये प्रति क्विंटल तय किया गया है। ज्वार का एमएसपी 2430 रुपये, मूंग का 6975 रुपये, अरहर का 5675 रुपये, रागी का 2897 रुपये, मूंगफली छिलका का 4890 रुपये, सूरजमुखी का 5388 रुपये और रामतिल का 5877 रुपये प्रति क्विंटल किया गया है। कपास का न्यूनतम समर्थन मूल्य 5150 रुपये निर्धारित किया गया है।

वैश्विक स्तर मिले नकारात्मक संकेतों के बीच घरेलू स्तर पर एमएसपी में की गयी बढोतरी से ग्रामीण क्षेत्रों में मांग बढऩे की संभावनाओं से विभिन्न क्षेत्रों में जोरदार लिवाली हुयी जिससे शेयर बाजार में दो दिनों की गिरावट थम गई। बीएसई का सेंसेक्स सुबह में वैश्विक स्तर से मिले संकेतों के आधार पर मामूली सात अंकों की बढ़त के साथ 35385.52 अंक पर खुला और बिकवाली के दबाव में शुरूआत में ही 35309.67 अंक के निचले स्तर तक फिसल गया।

इसी दौरान सरकार के कृषि उपज की कीमतों में भारी बढोतरी करने की घोषणा से बाजार में लिवाली शुरू हुयी जिसका जोर अंतिम सत्र तक देखा गया। इस दौरान यह 35667.31 अंक के उच्चतम स्तर तक गया। अंत में यह पिछले दिवस के 35378.60 अंक की तलना में 0.75 फीसदी अर्थात 266.80 अंक बढ़कर 35645.40 अंक पर बंद हुआ। 

इसी तरह से एनएसई का निफ्टी 15 अंकों की बढ़त लेकर 10715 अंक पर खुला लेकिन बिकवाली के दबाव में यह 10677.75 अंक के निचले स्तर तक फिसल गया। इसी दौरान एमएसपी वृद्धि से शुरू हुयी लिवाली के बल पर यह 10777.15 अंक के उच्चतम स्तर तक चढ़ा और अंत में पिछले दिवस के 10699.90 अंक की तुलना में यह 70 अंक अर्थात 0.65 अंक की बढ़त लेकर 10769.90 अंक पर रहा। बीएसई में कुल 2745 कंपनियों में लेनदेन हुआ जिनमें से 1265 बढ़त में और 1350 गिरावट में रहे जबकि 130 में कोई बदलाव नहीं हुआ। इस दौरान जिन समूहों में तेजी रही उनमें ऑटो 1.31 प्रतिशत, एनर्जी 1.03 प्रतिशत, हेल्थकेयर, वित्त, एफएमसीजी, बैंङ्क्षकग, तेल एवं गैस और रियल्टी शामिल है। - एजेंसी
 

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.