तेल आयात देशों का गुट बनाने की भारत ने शुरू की पहल

Samachar Jagat | Thursday, 14 Jun 2018 03:55:15 PM
India initiates initiative to create a group of oil import countries

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। तेल उत्पादक देशों के गुट ओपेक द्वारा कच्चे तेल की कीमतों के साथ खिलवाड़ के बीच भारत ने तेल क्रेताओं का क्लब बनाने की संभावना के बारे में चीन के साथ चर्चा की है। इसके पीछे सोच यह है कि बाजार में उत्पादकों के दबदबे के मुकाबले आयातकों का भी एक मजबूत समूह हो जो उनसे बेहत मोल - भाव करने की स्थति में हो तथा अधिक मात्रा में अमेरिकी कच्चे तेल की आपूर्ति हासिल की जा सके। 

सभी घरों को पाइप से रसोई गैस पहुंचाने वाला पहला राज्य होगा गुजरात

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने अप्रैल में अंतरराष्ट्रीय ऊर्ज़ा मंच (आईईएफ) की यहां हुई बैठक में इसका विचार रखा था। इसी के तहत भारतीय तेल निगम के चेयरमैन संजीव सिंह ने चाइना नेशनल पेट्रोलियम कॉर्प (सीएनपीसी) के चेयरमैन वांग यिलिन से चर्चा के लिए इस महीने बीजिंग का दौरा किया। 

बैठक के दौरान एशिया में अधिक अमेरिकी क्रूड की आपूर्ति के लिए संरचना पर चर्चा हुई ताकि करीब 60 प्रतिशत कच्चा तेल की आपूर्ति करने वाले ओपेक देशों का दबदबा कम किया जा सके। सूत्र ने कहा कि आईईएफ की बैठक में तेल उत्पाद देशों के गुट के खिलाफ बेहतर मोल - भाव करने की स्थिति में पहुंचने के लिए भारत - चीन हाथ मिलाने पर सहमत हुए थे। सिंह की यह यात्रा इसी तालमेल को ठोस प्रस्तावों के साथ आगे बढ़ाने के लिए थी। 

पतंजलि मेगा फूड पार्क: उ.प्र. सरकार ने केंद्र से कंपनी को 15 दिन और समय देने को कहा

उसने कहा कि तेल के संयुक्त आयात तथा एशियाई प्रीमियम को कम करने के लिए साझे मोलभाव की संभावनाओं पर चर्चा की गयी। जापान और दक्षिण कोरिया को भी इसी तरह की पेशकश की जाएगी। सीएनपीसी और उसकी सहयोगी कंपनियां तीसरे देशों में अपने तेल क्षेत्र से उत्पादित कच्चा तेल विदेशी बाजारों में बेचती है। भारत ने चीनी कंपनियों से सीधे कच्चा तेल खरीदने में भी दिलचस्पी जाहिर की। उल्लेखनीय है कि तेल उपभोक्ता देशों को एक साथ लाने की भारत की यह तीसरी कोशिश है। -एजेंसी 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.