भारत को सालाना 81 लाख नौकरियां पैदा करने की जरुरतः विश्व बैंक

Samachar Jagat | Tuesday, 17 Apr 2018 12:36:55 PM
India needs to create 81 lakh jobs annually :World Bank

नई दिल्ली। भारत को अपनी रोजगार दर बरकरार रखने के लिए सालाना 81 लाख रोजगार पैदा करने की आवश्यकता है। विश्व बैंक ने अपनी रिपोर्ट में यह बात कही। रिपोर्ट में कहा गया है कि देश की आर्थिक वृद्धि चालू वित्त वर्ष में 7.3 प्रतिशत रहने की उम्मीद है। जिसके आगामी दो वर्षों में बढ़कर 7.5 प्रतिशत होने का अनुमान है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत नोटबंदी और जीएसटी व्यवस्था के नकारात्मक प्रभाव से बाहर आ चुका है। 

खुशखबरी! राजस्थान में प्राध्यापक के पदों पर बंपर वैकेंसी

साल में दो बार जारी होने वाली साउथ एशिया इकोनॉमिक फोकस रिपोर्ट 'जॉबलेस ग्रोथ' में बैंक ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था में सुधार की बदौलत इस क्षेत्र ने दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ते क्षेत्र का दर्ज़ा फिर से हासिल कर लिया है। भारत के संबंध में कहा गया है कि उसकी आर्थिक वृ्द्धि 2017 में 6.7 प्रतिशत से बढ़कर 2018 में 7.3 प्रतिशत हो सकती है। निजी निवेश तथा निजी खपत में सुधार से इसके निरंतर आगे जाने की उम्मीद है। 

ओला एक साल में जोड़ेगी 10 हजार इलेक्ट्रिक वाहन

रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि देश की वृद्धि दर 2019-20 और 2020-21 में बढ़कर 7.5 प्रतिशत हो जाएगी। भारत को वैश्विक वृद्धि का फायदा उठाने के लिए निवेश और निर्यात बढ़ाने का सुझाव दिया है। हर महीने, 13 लाख नए लोग कामकाज करने की उम्र में प्रवेश कर जाते हैं और भारत को अपनी रोजगार दर को बनाए रखने के लिए 81 लाख नौकरियां पैदा करनी चाहिए, जो कि 2005-15 के आंकड़ों के विश्लेषण के अनुसार लगातार गिर रही है।

चौथी औद्योगिक क्रांति में बड़ी भूमिका निभा सकता है भारत: विश्व आर्थिक मंच

इसकी मुख्य वजह महिलाओं का नौकरी बाजार से दूर होना है। विश्व बैंक के दक्षिण एशिया क्षेत्र के प्रमुख अर्थशास्त्री मार्टिन रामा ने कहा, 2025 तक हर महीने 18 लाख से अधिक लोग कामकाज करने की उम्र में पहुंचेंगे और अच्छी खबर यह है कि आर्थिक वृद्धि नई नौकरियां पैदा कर रही हैं। -एजेंसी

भारत में यात्री कारों पर कर की दर साइज से नहीं उत्सर्जन के हिसाब से हो

रोजगार बाजार में तेजी , 9-12 प्रतिशत तक होगी वेतन वृद्धि

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.