कृत्रिम बुद्धिमता से भारत में 2021 तक नवोन्मेष, उत्पादकता दोगुनी होगी : माइक्रोसॉफ्ट अध्ययन

Samachar Jagat | Tuesday, 28 May 2019 12:55:21 PM
Innovation and productivity will double by 2021 with artificial intelligence in India

नई दिल्ली। माइक्रोसॉफ्ट-आईडीसी के एक अध्ययन के मुताबिक कृत्रिम बुद्धिमता (एआई) की वजह से भारत में 2021 तक नवोन्मेष सुधार और कर्मचारी उत्पादकता की दर दो गुनी से भी ज्यादा हो जाएगी। इस अध्ययन की रिपोर्ट सोमवार को जारी हुई। इस अध्ययन के दौरान भारत में 200 बड़े उद्योगपतियों और 202 कर्मचारियों का सर्वेक्षण किया गया। सर्वेक्षण में शामिल 77 फीसदी उद्योगपतियों ने सहमति जताई कि एआई उनके संगठन की प्रतिस्पर्धात्मकता में महत्वपूर्ण है। हालांकि भारत में सिर्फ एक तिहाई संगठनों ने ही एआई की दिशा में अपना सफर शुरू किया है। जिन कंपनियों ने एआई को अपनाया है उनके 2021 तक अपनी प्रतिस्पर्धात्मकता को 2.3 गुना बढ़ा लेने की उम्मीद है। 

Rawat Public School

बीएसएनएल प्रमुख ने कहा, कर्मचारियों को मई का वेतन समय पर मिलेगा

माइक्रोसॉफ्ट इंडिया की नेशनल टेक्नोलॉजी ऑफिसर रोहिणी श्रीवत्स ने कहा, “आज, हर कंपनी एक सॉफ्टवेयर कंपनी है और हर बातचीत तेजी से डिजिटल हो रही है। इस नई दुनिया में सफलता के लिए संगठनों को एआई के साथ श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ तकनीक का तेजी से अनुग्रहण करने वाला होने की जरूरत है। श्रीवत्स ने एक बयान में कहा, “इसके अलावा, उन्हें अपनी विशिष्ट डिजिटल प्रतिभा बनाने की शुरूआत और सुनिश्चित करने की जरूरत है कि यह सबकुछ विश्वास और सुरक्षा पर आधारित हो। उन्होंने कहा, ऐसी अर्थव्यवस्थाएं और कारोबार जिन्होंने अब तक अपना एआई का सफर शुरू नहीं किया, उनके सामने इस दिशा में पहले ही कदम बढ़ा चुके उद्योगों और अर्थव्यवस्थाओं के मुकाबले प्रतिस्पर्धात्मक फायदों को गंवाने का असल जोखिम है।

बेड़े में 100 विमान शामिल करने वाली चौथी भारतीय विमानन कंपनी बनी स्पाइसजेट

सर्वेक्षण में शामिल 24 फीसद प्रतिभागियों ने एआई पहल को लागू करने के लिए उच्च प्रतिस्पर्धात्मकता को प्रथम प्रेरक करार दिया। दूसरे प्रेरकों में त्वरित नवोन्मेष (21 फीसद), बेहतर ग्राहक व्यवहार (15 फीसद), उच्च लाभ (14 फीसद) के साथ ही ज्यादा उत्पादक कर्मचारी (नौ फीसद) शामिल हैं। इंटरनेशनल डाटा कॉरपोरेशन (आईडीसी) इंडिया के निदेशक (उद्यम) रंगनाथ सदाशिव ने कहा, पिछले साल जिन संगठनों ने एआई को अपनाया था, उन्होंने इन क्षेत्रों में आठ से 22 फीसद के बीच वास्तविक सुधार देखा। उन्होंने तीन साल के परिदृश्य को ध्यान में रखते हुए इसमें 2.1 गुना और सुधार आने का पूर्वानुमान व्यक्त किया है, जिनमें सबसे ज्यादा उछाल उच्च लाभ और ज्यादा प्रतिस्पर्धात्मकता में देखने को मिलेगी। -एजेंसी

सिद्धांतों में एकरूपता नहीं होने के कारण अधिक हैं स्पेक्ट्रम की दरें: रिपोर्ट



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.