वित्त मंत्रालय ने सरकार की 656 करोड़ रुपये की पूंजी के बदले एएआई को शेयर जारी करने को कहा

Samachar Jagat | Tuesday, 21 May 2019 03:51:13 PM
Ministry of Finance asked the AAI to issue shares instead of capital of Rs 656 crores

नई दिल्ली। वित्त मंत्रालय ने भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) से सरकार से ली गई 656 करोड़ रुपए की पूंजी के एवज में शेयर जारी करने को कहा है। सूत्रों ने यह जानकारी दी। सरकार के 100 प्रतिशत स्वामित्व वाले सांविधिक निकाय का गठन संसद के कानून के तहत एक अप्रैल, 1995 को पूर्ववर्ती राष्ट्रीय विमानपत्तन प्राधिकरण तथा भारतीय अंतरराष्ट्रीय विमानपत्तन प्राधिकरण का विलय कर किया गया था। तथ्य यह है कि एएआई ने सरकार की तरफ से डाली गई पूंजी के एवज में कोई इक्विटी शेयर जारी नहीं किया। पिछले साल वित्त मंत्रालय में लाभ कमाने वाले सार्वजनिक उपक्रमों द्बारा शेयर पुनर्खरीद पर चर्चा हुई थी। 

दफ्तरों में काम करने वाले 7,000 कर्मचारियों की छंटनी कर रही फोर्ड

उसके बाद एएआई के निगमीकरण के लिए वित्त मंत्रालय, कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय तथा नागर विमानन मंत्रालय के अधिकारियों के बीच बैठक हुई और पूंजी दिए जाने को लेकर शेयर जारी करने के बारे में कानूनी राय ली गई। सूत्रों ने कहा, वित्त मंत्रालय ने भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण को पत्र लिखकर 656.56 करोड़ रुपए की चुकता पूंजी के एवज में शेयर जारी करने को कहा है। शेयर पूंजी जारी करने के साथ एएआई कंपनी कानून के तहत कंपनी बन जाएगी और शेयर के निवेश, शेयर पुनर्खरीद या शेयर बाजारों में सूचीबद्धता के लिए जा सकती है। सूत्रों के अनुसार एएआई के निगमीकरण का काम अब नई सरकार करेगी। नई सरकार इस माह के अंत में सत्ता संभाल लेगी।

विलय प्रभाव: बैंक ऑफ बड़ौदा 800-900 शाखाओं को दूसरी जगह स्थानांतरित करेगा या बंद करेगा

पिछले वित्त वर्ष में एएआई ने वित्त वर्ष 2017-18 के लिए पूरा कर बाद लाभ (पीएटी) 2,800 करोड़ रुपए सरकार को लाभांश के रूप में दिया। इससे पहले, वह सरकार को लाभांश के रूप में केवल 30 प्रतिशत ही हस्तांतरित करता था। वित्त मंत्रालय की पूंजी पुनर्गठन नीति के तहत सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को सरकार को अधिकतम लाभांश देना है। इसीलिए पिछले वित्त वर्ष में एएआई को 2017-18 का अपना पूरा लाभ बतौर लाभांश देने को कहा था। -एजेंसी

आईएल एंड एफएस के 7 पवन ऊर्जा संयंत्रों को खरीदेगी जापान की ओरिक्स



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.