मोदी सरकार ने वर्ष 2014 से उद्योग आधारित कई पहल की हैं जिससे कारोबारी माहौल में सुधार हुआ है: सीतारमण

Samachar Jagat | Wednesday, 12 Jun 2019 10:55:19 AM
Modi government has taken several initiatives from industry to the year 2014, which has improved the business environment Sitharaman

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने उद्योग जगत से अधिक रोजगार देने में समर्थ बनने की अपील करते हुए कहा है कि मोदी सरकार ने वर्ष 2014 से उद्योग आधारित कई पहल की हैं जिससे कारोबारी माहौल में सुधार हुआ है। सीतामरण ने उद्योग, सेवा और व्यापार समूहों के प्रतिनिधियों के साथ दूसरी बजट पूर्व चर्चा में सरकार ने 2014 से ही उद्योग से संबंधित अनेक पहलों की शुरुआत की है जिससे कारोबारी माहौल में सुधार हुआ है। मौजूदा नियमों को सरल और तर्कसंगत बनाने के बारे में ज्यादा जोर दिया गया है। शासन को अधिक प्रभावी बनाने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी को अपनाया गया है। 

आरबीआई ने शून्य राशि वालों खातों के लिये नियमों में ढील दी, अब मिलेंगे चेक बुक समेत अन्य सुविधाएं

वित्त मंत्री ने कहा कि भारत के कुल कार्यबल का 24 प्रतिशत औद्योगिक क्षेत्र में कार्यरत है। इसलिए, जनसांख्यिकीय विविधता का पूरा लाभ उठाने के लिए उद्योग को अधिक से अधिक कार्यबल को समायोजित करने में समर्थ होना चाहिए। इस बैठक में वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर, वित्त सचिव सुभाष सी. गर्ग, व्यय सचिव गिरीश चन्द्र मुर्मू, राजस्व सचिव अजय नारायण पांडे, वित्तीय सेवाओं मामलों के सचिव राजीव कुमार, दीपम सचिव अतनू चक्रवर्ती, पर्यटन सचिव योगेन्द्र त्रिपाठी, सूचना और प्रसारण मंत्रालय के सचिव अमित खरे, उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग के सचिव रमेश अभिषेक, वाणिज्य विभाग के सचिव अनूप वधावन, केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के अध्यक्ष प्रमोद चंद्र मोदी , केन्द्रीय अप्रत्यक्ष एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) के अध्यक्ष पी.के. दास तथा मुख्य आर्थिक सलाहकार के.वी. सुब्रमण्यम और वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। 

भारतीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के दृ­ष्टिकोण से उद्योग सेवा और व्यापार क्षेत्रों के प्रतिनिधियों ने औद्योगिक क्षेत्र, भूमि सुधार, विशेष आर्थिक क्षेत्र, औद्योगिक नीति, अनुसंधान और विकास में निवेश, कर सरलीकरण, पर्यटन क्षेत्र की संभवानाओं को बढ़ाने, प्रत्यक्ष विदेशी निवेश, वस्तु और सेवा कर (जीएसटी), पूंजी लाभ कर, कॉरपोरेट कर, एमएसएमई क्षेत्र, ई-कॉमर्स, कौशल विकास, शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र, स्टार्टअप, मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र तथा खाद्य विनिर्माण उद्योग के बारे अपने सुझाव दिए। 

गृह ऋण के आंकड़े कह रहे हैं कि छोटे, मझोले शहरों में बढ़ रही है घरों की मांग: जेएलएल

उद्योग की ओर से सीआईआई के अध्यक्ष विक्रम एस किर्लोस्कर, फिक्की के अध्यक्ष संदीप सोमानी, एसोचैम के अध्यक्ष बालकृषण गोयनका, रत्न एवं आभूषण निर्यात संवर्धन परिषद के अध्यक्ष प्रमोद अग्रवाल, फिसमी के अध्यक्ष अनिमेष सक्सेना, भारतीय महिला उद्यमी परिसंघ की अध्यक्ष रजनी अग्रवाल, चमड़ा निर्यात परिषद के अध्यक्ष पनारुना अकील अहमद और भारतीय निर्यात संगठनों के महासंघ के महानिदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी अजय सहाय तथा अन्य लोग मौजूद थे। -एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.