सरकार के पुराने नोट बंद करने के फैसले से खुश नहीं हैं फ्लिपकार्ट के सचिन बंसल

Samachar Jagat | Thursday, 17 Nov 2016 01:18:45 PM
सरकार के पुराने नोट बंद करने के फैसले से खुश नहीं हैं फ्लिपकार्ट के सचिन बंसल

बेंगलुरु। मोदी सरकार द्वारा 500 और 1000 रूपए के  नोट बंद करने के बाद पुरा देश बैंकों में लाइन में लगा हुआ है। कोई सरकार का समर्थन कर रहा है तो कोई नहीं। माना जा रहा है कि नोटबंदी के फैसले से ऑनलाइट रिटेल और ई-पेमेंट कंपनियों को लाभ मिलेगा। इसके उलट फ्लिपकार्ट के को-फाउंडर सचिन बंसल सरकार के फैसले से नाखुश हैं। 

शुरुआती कारोबार में रुपया आठ पैसे मजबूत

सरकार की ओर से किए गए नोटबंदी के फैसले को सचिन बंसल अनियंत्रित मानते हैं। देश की सबसे बड़े ऑनलाइन मार्केटप्लेस के को-फाउंडर ने कहा, 'सबसे बड़ी समस्या सरकार की प्रतिक्रिया है। इसे कुछ लोग अनियंत्रित या मनमाना फैसला भी कह रहे हैं। नोटबंदी के बाद जैसे हालात हैं, उन्हें कुछ कदम उठाकर थामा जा सकता था। जैसे बड़े पैमाने पर कैश छापकर रखना, एटीएम मशीनों को पहले से ही रीकैलिब्रेट करके ऐसी स्थिति से बचा सकता था।'

ग्लोबल मोबाइल इंटरनेट कॉन्फ्रेंस के दौरान पैनल डिस्कशन में बंसल ने कहा, 'मैं इस मामले में अधिक रिसर्च करता और इसके अलावा एक्सपर्ट पैनल की राय भी लेता।' केंद्र की मोदी सरकार ने 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपये के नोटों को बंद करने का फैसला लिया था। इसके चलते देशभर में नोट बदलवाने, जमा करने और एटीएम से नकद निकासी को लेकर भारी भीड़ उमड़ रही है।

नोट बदलने के नियम कड़े, 2000 रूपये की सीमा

इसके अलावा कैश की कमी के चलते इकॉनमिक ग्रोथ पर भी विपरीत असर पडऩे की उम्मीद जताई जा रही है। खासतौर पर कैश ट्रांजैक्शंस पर निर्भर रहने वाली इंडस्ट्री को इससे बड़ा नुकसान उठाना पड़ रहा है। हालांकि कुछ एक्सपर्ट्स का मानना है कि लॉन्ग टर्म में इसके खासे फायदे होंगे और भारत एक कैशलेस इकॉनमी में तब्दील होने की दिशा में आगे बढ़ सकेगा। बुधवार और गुरुवार को हुई इस ग्लोबल मोबाइल इंटरनेट कॉन्फ्रेंस में इस बात पर चर्चा हुई कि किस तरह से भारतीय बिजनस को डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म पर लाया जा सकता है।

 

Read More:

पार्टी में जाने पर इस महिला का किया ये हाल, जानकर हो जाएंगे रोंगटे खड़े

ऐश -अभिषेक की बेटी आराध्या हुई 5 साल की : see pics

नोटबंदी के दौर में हालात कुछ युं

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.