पहले से निर्मित घर खरीदने पर लोगों का अधिक जोर

Samachar Jagat | Monday, 08 Oct 2018 07:44:52 PM
More emphasis on purchasing a house already built

नई दिल्ली। ग्राहक इस समय नई शुरू की जाने वाली परियोजनाओं में निवेश करने के बजाय इस सयम बिल्कुल तैयार फ्लैट खरीदने में अधिक रूचि दिखा रहे हैं। जमीन जायदाद बाजार के बारे में एक नई सर्वेक्षण रपट में कहा गया है कि देश के विभिन्न हिस्सों में रीयल एस्टेट परियोजनाओं के अधर में लटकने की वजह से ग्राहकों के रुख में यह बदलाव आया है।

सम्पत्ति परामर्शदाता एनरॉक के इस ऑनलाइन सर्वे में शामिल किए गए 49 प्रतिशत लोगों ने पहले से तैयार फ्लैट खरीदना चाहेंगे जबकि 35 प्रतिशत लोगों ने ऐसी संपत्ति खरीदने में दिलचस्पी जाहिर की जो अगले छह माह में तैयार मिले। इसी तरह करीब 11 प्रतिशत लोगों ने एक साल के भीतर तैयार होने वाली संपत्तियों को खरीदने की इच्छा जाहिर की।

इसके विपरीत केवल पांच प्रतिशत ग्राहकों ने कहा कि वे नई परियोजनाओं में धन लगाना चाहते हैं। दिल्ली-एनसीआर, मुंबई महानगर क्षेत्र, बेंगलुरु, हैदराबाद, चेन्नई, कोलकाता और पुणे में ये सर्वेक्षण किया गया। इसमें कुल 2,621 लोगों ने हिस्सा लिया। एनरॉक ने कहा कि इस मौसम में खरीदार पहले से तैयार संपत्ति को अधिक तवज्जो दे रहे हैं।

खरीदार लगातार विलंब, कुछ डेवलपरों द्बारा दिवाला का दावा किये जाने और अनुचित गतिविधियों में शामिल रहने जैसी दिक्कतों के कारण एकदम नई योजनाओं से जुड़े खतरों से बच रहे हैं। हाउसिग परियोजनाओं की पजेशन देने में बहुत अधिक देरी और चूक के कारण रीयल एस्टेट बाजार, खासकर दिल्ली-एनसीआर का, काफी बुरी तरह प्रभावित हुआ है।

नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गुरुग्राम के लाखों मकान खरीदारों के पैसे जेपी समूह, आम्रपाली, यूनिटेक और 'द थ्रीसी कंपनी’ सहित अन्य परियोजनाओं में फंसे हुए हैं। 'रीयल एस्टेट कंज्युमर आउटलुक : एच2 2018’ सर्वेक्षण में पाया गया है कि 51 प्रतिशत खरीदार किराया आमदनी चाहते हैं।

वहीं 39 फीसदी 40 लाख रुपए से कम के मकान में निवेश करना चाहते हैं। इस सर्वेक्षण में हिस्सा लेने वाले 81 प्रतिशत लोगों ने स्वीकार किया है कि रीयल एस्टेट क्षेत्र के विनिमयन के बाद इस क्षेत्र में पारदर्शिता व जवाबदेही बढ़ी है। एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.