सरकार ने दी नेशनल जूट मैनुफैक्चरर्स कॉरपोरेशन और उसकी अनुषंगी इकाई को बंद करने की मंजूरी

Samachar Jagat | Thursday, 11 Oct 2018 11:29:58 AM
National Jute Manufacturers Corporation, Approval of closure of subsidiary units

नई दिल्ली। सरकार ने घाटे में चल रहे सार्वजनिक उपक्रम नेशनल जूट मैनुफैक्चरर्स कॉर्पोरेशन (एनजेएमसी) और उसकी अनुषंगी बर्ड्स जूट एंड एक्स्पोर्ट्स लिमिटेड (बीजेईएल) को बंद करने को मंजूरी दे दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बुधवार को हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया। इस निर्णय से दोनों बीमार सार्वजनिक प्रतिष्ठानों को चलाने में आ रहे खर्च से सरकारी खजाने को राहत मिलेगी।

एक आधिकारिक बयान के अनुसार इस प्रस्ताव से घाटे में चल रही कंपनियों को बंद करने में मदद मिलेगी और मूल्यवान परिसंपत्ति का उपयोगी कार्य के लिए इस्तेमाल हो सकेगा। इसके साथ ही इससे विकास कार्यों के लिए वित्तीय संसाधन जुटाए जा सकेंगे। बयान में कहा गया है कि बीजेईएल में कोई कर्मचारी नहीं हैं और इसका कारखाना परिचालन में नहीं है। ऐसे में इसे बंद करने का कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं होगा।

दोनों सार्वजनिक प्रतिष्ठानों के पास उपलब्ध जमीन का उपयोग समाज के समग्र विकास के लिए सार्वजनिक/अन्य सरकारी कार्यो में किया जा सकेगा। तयशुदा परिसंपत्तियों और चालू परिसंपत्तियों का निपटान लोक उपक्रम विभाग (डीपीई) के दिशा-निर्देशों के अनुसार होगा और देनदारियों को पूरा करने के बाद परिसंपत्तियों की बिक्री से हुई प्राप्तियां भारत की संचित निधि में जमा कराई जाएंगी।

दिशा-निर्देशों के अनुसार परिसंपत्तियों के निपटान के लिए भूमि प्रबंधन एजेंसी (एलएमए) की सेवा ली जाएगी। बयान के मुताबिक एनजेएमसी अनेक वर्षों से घाटे में चल रही है और 1993 में इसे बीआईएफआर को विचार के लिए भेजा गया। कंपनी टाटा की बोरी बनाती थी जिसका इस्तेमाल विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा अनाज के पैकेजिंग के लिए किया जाता था। कई वर्षों से जूट की बोरी की मांग में कमी आ रही है और पाया गया है कि कंपनी चलाने के लिए यह वाणिज्यिक रूप से लाभदायक नहीं रह गई है। -एजेंसी 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.