डिबेंचर न्यासियों को अपनी वेबसाइट पर ग्राहकों के साथ क्षतिपूर्ति की प्रकृति का खुलासा करना होगा: सेबी

Samachar Jagat | Tuesday, 28 May 2019 11:57:21 AM
Need to give more information to debenture trustees in case of bonds listed: SEBI

नई दिल्ली। बाजार नियामक सेबी ने निवेशकों के हितों की रक्षा के लिए डिबेंचर न्यासियों को बॉन्ड प्रतिभूति को लेकर अधिक ब्योरा देने को कहा है। डिबेंचर न्यासी या ट्रस्टी एक व्यक्ति या इकाई है कि जो कि अन्य पक्ष के लाभ के लिए डिबेंचर स्टॉक को अपने पास रखने का काम करता है। डिबेंचर एक बॉन्ड है जो किसी भौतिक संपत्ति या जमानत से सुरक्षित नहीं होती है। सेबी ने परिपत्र में कहा , डिबेंचर न्यासियों को अपनी वेबसाइट पर अपने ग्राहकों के साथ क्षतिपूर्ति की प्रकृति का खुलासा करना होगा। 

बीएसएनएल प्रमुख ने कहा, कर्मचारियों को मई का वेतन समय पर मिलेगा

इन खुलासों में न्यूनतम शुल्क और शुल्क को निर्धारित करने वाले कारकों के बारे में जानकारी देना भी शामिल है। इसके अलावा डिबेंचर न्यासियों को एक वित्त वर्ष के दौरान सभी निर्गमों के संबंध में डिबेंचर धारकों पर ब्याज या परिपक्वता अवधि पूरी होने पर देय राशि का ब्योरा अपनी-अपनी वेबसाइट पर देना चाहिए। यह ब्योरा उसे वित्त वर्ष चालू होने के पांच दिन के भीतर डालना होगा। सेबी ने कहा कि डिबेंचर न्यासियों को पूरे वित्त वर्ष के दौरान प्रबंधित नए निर्गम के बारे में भी सारा ब्योरा निर्गम बंद होने के पांच दिन के भीतर डालने की जरूरत है। 

बेड़े में 100 विमान शामिल करने वाली चौथी भारतीय विमानन कंपनी बनी स्पाइसजेट

निजी नियोजन वाले निर्गम को लेकर सेबी ने कहा कि भुगतान और सूचीबद्धता में चूक से जुड़ी जानकारियां जारीकर्ता और निवेशक के बीच हुए समझौते में शामिल होनी चाहिए। निर्धारित तिथि पर ब्याज और परिपक्वता अवधि पर देय राशि के भुगतान में चूक की स्थिति में जारीकर्ता कंपनी को निर्धारित ब्याज दर (कूपन रेट) पर कम से कम दो प्रतिशत का अतिरिक्त ब्याज देना होगा। इसी प्रकार, आवंटन की तारीख से 20 दिन से अधिक की देरी से बान्ड को सूचीबद्ध करने पर जारीकर्ता कंपनी को निवेशक को ब्याज दर पर कम से कम एक प्रतिशत अतिरिक्त वार्षिक ब्याज देना होगा। -एजेंसी

सिद्धांतों में एकरूपता नहीं होने के कारण अधिक हैं स्पेक्ट्रम की दरें: रिपोर्ट



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.