अप्रैल-सितंबर में ऑयल मील निर्यात नौ प्रतिशत बढ़कर हुआ 14 लाख टन

Samachar Jagat | Monday, 08 Oct 2018 04:18:43 PM
Oil mills exports increased 9 percent in April-September to 1.4 million tonnes

नई दिल्ली। चालू वित्तवर्ष के पहले छह महीनों में भारत के ऑयल मील का निर्यात नौ प्रतिशत बढ़कर 14.03 लाख टन हो गए। इस दौरान रैपसीड मील के निर्यात में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की गयी। भारत के लिए चीन का बाजार जल्द खुलने की नई संभावनाओं से ऑयल मील के निर्यात में और तेजी आने की संभावना है। सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एसईए), मुंबई द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार अप्रैल - सितंबर 2018 के दौरान 14,03,382 टन ऑयल मील का निर्यात हुआ। इससे पिछले साल इसी अवधि में 12,84,788 टन आयात हुआ था। 

इसी दौरान रैपिसेड मील का निर्यात एक साल पहले की इसी अवधि के 3,00,627 टन की तुलना में 6,01,105 टन रहा। इसके प्रमुख आयातक देशों में दक्षिण कोरिया, वियतनाम और थाईलैंड शामिल हैं। हालांकि इसी दौरान सोयाबीन मील का निर्यात पहले के 4,89,926 टन से घटकर 3,92,736 टन रहा। आंकड़ों के अनुसार, वित्तवर्ष 2018-19 के पहले छह महीनों के दौरान वियतनाम का निर्यात 24 प्रतिशत बढ़कर 2,77,406 टन हो गया।

थाईलैंड ने अप्रैल-सितंबर 2018 के दौरान 1,67,101 टन आयलमील का आयात किया, जो पिछले साल की समान अवधि में 76,895 टन का था। फ्रांस को होने वाला निर्यात पहले के 35,520 टन से दोगुने से भी ज्यादा बढ़कर 76,704 टन हो गया। समीक्षाधीन अवधि में जर्मनी ने 85,100 टन आयात ऑयल मील का आयात किया जो पिछले साल की समान अवधि में 42,612 टन का हुआ था। दक्षिण कोरिया को होने वाला निर्यात तीन प्रतिशत की मामूली वृद्धि के साथ बढ़कर 4,41,119 टन हो गया जो पिछले साल की समान अवधि में 4,27,126 टन का हुआ था।

एसईए ने पिछले हफ्ते जारी एक बयान में कहा, अमेरिका और चीन के बीच चल रहे व्यापार विवाद से बाजार में अनिश्चितता है । चीन को सोयाबीन और ऑयल मील की अपनी आवश्यकताओं के लिए दूसरे बाजारों की तलाश है। चीन ने 2012 से भारत से ऑयल मील का आयात करने पर प्रतिबंध लगा रखा है पर बदले हालात में उसे इस निर्णय पर पुनर्विचार करने को मजबूर होना पड़ा है। एसोसिएशन से उम्मीद है कि चीन जल्द ही भारत से रैपसीड मील के आयात के लिए प्रतिबंध हटाएगा। -एजेंसी 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.