पीएनबी 50 करोड़ से ऊपर के कर्ज प्रसंस्करण का काम 60 शाखाओं में केंद्रित करेगा

Samachar Jagat | Thursday, 05 Jul 2018 04:40:21 PM
PNB will focus on processing of debt processing of more than 50 crores in 60 branches

नई दिल्ली। घोटाले की मार झेल रहे पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने 50 करोड़ रुपए से ऊपर के सभी कर्ज का प्रसंस्करण 60 विशेष शाखाओं में ही केंद्रित करने का निर्णय लिया है। बैंक ने बड़े खातों की बेहतर निगरानी सुनिश्चित करने के लिए यह कदम उठाया। पीएनबी क्रेडिट पुनर्गठन प्रक्रिया के हिस्से के रूप में देशभर में इस तरह की प्रणालीगत रूप से महत्त्वपूर्ण शाखाओं (एसआईबी) का निर्माण करेगा। पंजाब नेशनल बैंक ने कहा, बैंक बड़े कर्ज खातों को एसआईबी शाखाओं में स्थानातंरित करने की प्रक्रिया में है।

हमने ऋण पुनर्गठन की प्रक्रिया शुरू की है। यह सुनिश्चित करेगा कि बड़े खातों के साथ - साथ ऋण परिचालन कुछ विशेष नामित शाखाओं पर केंद्रित रहे। बैंक ने कहा, बेहतर हिसाब - किताब और परिचालन सुनिश्चित करने के लिए बैंक 50 करोड़ रुपए से अधिक के ऋण खातों को प्रणालीगत रूप से महत्वपूर्ण शाखाओं में स्थानांतरित कर रहा है। बड़े खातों के बीच बेहतर निगरानी और संतुलन सुनिश्चित करने के लिए देशभर में 60 एसआईबी का निर्माण किया जाएगा। इसके अलावा , अधिकांश बड़े खातों का परिचालन बड़े कॉर्पोरेट शाखाओं (एलसीबी) के रूप में नामित शाखाओं से किया जाएगा। नियमित शाखाएं बचत खातों और चालू खाता बचत खाता (सीएएसए) पर ध्यान केंद्रित करेंगी। 

मेट्रोपॉलिटन शहरों में एलसीबी / एमसीबी / आईबीबी के अलावा, भौगोलिक सुविधा के आधार पर दो से तीन शाखाओं को एसआईबी के रूप में चिह्नित किया जाएगा। पीएनबी ने ब्रैडी हाउस शाखा को बंद करने की खबरों पर कहा कि ब्रैडी हाउस जैसी शाखाओं में परिचालन बंद करने की कोई योजना नहीं है। कुछ खातों का पुन : आवंटन पुनर्गठन प्रक्रिया का हिस्सा है। पीएनबी ग्राहकों के लिए खुदरा परिचालन जारी रहेगा। पीएनबी की इसी शाखा से करीब 13,000 करोड़ रुपए के घोटले का खुलासा हुआ था। बैंक ने कहा कि परिवर्तन मिशन के तहत वह 50 लाख रुपए से ऊपर के ऋण के प्रसंस्करण के लिए देशभर में केंद्रीकृत ऋण प्रसंस्करण केंद्र स्थापित करेगा।-एजेंसी  

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.