भारत, चीन के बीच तुलना करना अनुचित: रघुराम राजन

Samachar Jagat | Friday, 13 Apr 2018 05:23:20 PM
Raghuram Rajan says Comparing the comparison between India, China is unfair

न्यूयार्क। रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भारत में ढांचागत क्षेत्र में सुधार की जोरदार वकालत करते हुये कहा कि भारत और चीन की तुलना करना अनुचित है क्योंकि भारत कम्युनिस्ट शासन वाले चीन की अर्थव्यवस्था के मुकाबले काफी छोटी है। भारत के मुकाबले चीनी अर्थव्यवस्था पांच गुना बड़ी है।

सोना 350 रुपए लुढक़ा, चांदी भी 250 रुपए टूटी

राजन ने कहा, ''मुझे लगता है कि भारत और चीन के बीच अक्सर तुलना की जाती है। यह तुलना काफी हद तक अनुचित है। दोनों ही पूरी तरह से अलग देश हैं।" राजन यहां शिकागो विश्वविद्यालय के बूथ स्कूल आफ बिजनेस में वित्त के प्रोफेसर हैं। उन्होंने हार्वर्ड केनेडी स्कूल में 2018 के अल्बर्ट एच गोर्डान व्याख्यान देते हुये ये बातें कहीं।

उन्होंने कहा कि चीन के मुकाबले भारत फीका पड़ जाता है। चीनी अर्थव्यवस्था का आकार भारत के मुकाबले पांच गुणा है और प्रति व्यक्ति आय भी इसी इसी तरह की है क्यों की दोनों देशों की जनसंख्या एक दूसरे के करीब आ रही है। राजन ने कहा, ''चीन के साथ तुलना को छोड़कर किसी भी अन्य मानदंड की यदि बात की जाये तो भारत काफी प्रभावशाली कहानी है।" पिछले 25 सालों के दौरान भारत की आर्थिक वृद्धि सात प्रतिशत के दायरे में रही है।

सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन बढ़त बनाकर बंद हुए सेंसेक्स-निफ्टी

चीन के मुकाबले भारत ने जो काम नहीं किया है वह है ढांचागत सुविधा और निर्माण कार्य। राजन ने कहा कि चीन की वृद्धि और विनिर्माण क्षेत्र की प्रगति में का एक बड़ा योगदान उ सकी बेहतर ढांचागत सुविधाओं का है। वहां लाजिस्टिक सुविधाएं, बंदरगाह तक पहुंचने की विधा और सड़के बहुत अच्छी है जो भारत में नहीं है।

राजन ने कहा कि भारत में ढांचागत परियोजनाओं को तैयार करना काफी मुश्किल काम है। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि भारत में छह लेन का राजमार्ग बनाना हो तो परियोजना के लिये कई लोगों की जमीन का अधिग्रहण करना होगा। भूमि अधिग्रहण में कईतरह की अड़चनें सामने आतीं हैं। एजेंसी

टाइटन का 2022-23 तक 50000 करोड़ रुपये आय का लक्ष्य

डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने के लिए जियो और सोडेक्सो ने मिलाया हाथ

69 अतिरिक्त गांवों को शहरों की तर्ज पर बिजली आपूर्ति का तोहफा

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.