महंगाई बढ़ने के डर से रिजर्व बैंक ने नहीं घटाई ब्याज दर

Samachar Jagat | Wednesday, 06 Dec 2017 03:28:53 PM
Reserve Bank not reduced interest rates fearing rising inflation

मुंबई। रिजर्व बैंक ने पांच तिमाही बाद चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद वृद्धि दर में सुधार होने और आगे महंगाई बढऩे के जोखिम को देखते हुये ब्याज दरों में आज कोई बदलाव नहीं किया। इससे सस्ते ऋण की उम्मीद लगाये लोगों को अभी इसके लिए इंतजार करना पड़ेगा।

काली मिर्च का न्यूनतम आयात मूल्य 500 रुपए किलो

मौद्रिक नीति समिति की दो दिवसीय बैठक के बाद जारी चालू वित्त वर्ष की पांचवी द्विमासिक मौद्रिक नीति में रिजर्व बैंक ने कहा कि वृहद अर्थव्यवस्था को लेकर बन रही स्थिति का आँकलन करने के बाद समिति ने नीतिगत दरों में कोई बदलाव नहीं करने के साथ ही चालू वित्त वर्ष में आर्थिक विकास के अनुमान को भी 6.7 प्रतिशत पर अपरिवर्तित रखा है। समिति ने चालू वित्त वर्ष में महंगाई को चार फीसदी के आसपास बनाये रखने का अपना लक्ष्य भी यथावत रखा है।

सोने में 200 रुपए और चांदी 500 में रुपए की गिरावट

समिति के इस निर्णय से रेपो दर छह प्रतिशत, रिवर्स रेपो दर 5.75 प्रतिशत, मार्जिनल स्टैंभडग फसिलिटी दर 6.25 प्रतिशत, बैंक दर 6.25 प्रतिशत, नकद आरक्षित अनुपात चार प्रतिशत और वैधानिक तरलता अनुपात 19.5 प्रतिशत पर अपरिवर्तित है। समिति ने मौद्रिक नीति पर निरपेक्ष रूख बनाये रखने का भी निर्णय लिया है।

CCI ने दी इंडस टावर्स के शेयरों को वोडाफोन के शेयरधारकों को हस्तांतरण की मंजूरी

समिति ने बहुमत के आधार पर यह निर्णय लिया है। समिति के अध्यक्ष एवं रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल के साथ ही सदस्य डॉ़ चेतन घाटे, डॉ, माइकल दूेबब्रत पात्रा, डॉ़ विरल पी आचार्य और डॉ़ पमी दुआ ने जहां नीतिगत दरों को यथावत बनाये रखने के पक्ष में मतदान किया वहीं डॉ़ रविन्द्र एच ढोलकिया ने एक चौथाई फीसदी की कटौती के पक्ष में मतदान किया। समिति के बयान में कहा गया है कि अक्टूबर में हुई उसकी बैठक के बाद से वैश्विक स्तर पर आर्थिक गतिविधियों में तेजी आई है।

अक्टूबर में कारोबारी विश्वास 13 प्रतिशत घटा : NCAER

विकसित अर्थव्यवस्थायें सुधर रही हैं। विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के अक्टूबर-दिसंबर की तिमाही के लिए जारी ताजा अध्ययन में संकेत दिया गया है कि निर्यात ऑर्डर में कमी आने से वैश्विक व्यापार में तेजी नहीं आ रही है। कच्चे तेल की कीमत नवंबर के प्रारंभ में ढाई साल के उच्चतम स्तर पर पहुँच गई है तथा डॉलर के मजबूत होने से कीमती धातुओं पर दबाव बना है। एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2017 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.