लगातार दो माह सुस्ती झेलने के बाद नए ऑर्डर आने से अक्टूबर में सेवा क्षेत्र की रफ्तार हुई तेज

Samachar Jagat | Monday, 05 Nov 2018 02:52:18 PM
Services sector activity increased in October

मुंबई। लगातार दो माह की सुस्ती को झेलने वाले देश के सेवा क्षेत्र की रफ्तार नए ऑर्डर आने से अक्टूबर में तेज हुई और इसका निक्की पीएमआई बिजनेस एक्टिविटी सूचकांक सितंबर के 50.9 से बढकर अक्टूबर में 52.2 पर पहुंच गया। सितंबर में सेवा क्षेत्र का सूचकांक चार माह के निचले स्तर 50.9 पर रहा था और इससे पहले अगस्त में यह 51.5 रहा था। हालांकि जुलाई में सेवा क्षेत्र की गतिविधियां 21 माह के उच्चतम स्तर 54.2 पर रही थीं। निक्की ने सोमवार को जारी रिपोर्ट में बताया कि लागत मूल्य की मुद्रास्फीति घटी है और नई भर्तियों में मार्च 2011 के बाद दूसरी बड़ी तेजी रही है। माह दर माह आधार पर खरीद प्रबंधकों के बीच कराए गए सर्वेक्षण पर आधारित इस सूचकांक का 50 से ऊपर रहना कारोबार में वृद्धि और इससे कम रहना गिरावट को दर्शाता है जबकि 50 स्थिरता का स्तर है। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि आलोच्य माह में लागत मूल्य की मुद्रास्फीति घटने से बिक्री मूल्य की तेजी की रफ्तार कम हुई है। पर्यटकों की संख्या बढ़ने और निवेश योजनाओं के कारण कुल मिलाकर गत माह कारोबारी धारणा सकारात्मक रही है लेकिन इस पर साथ ही राजनीतिक अनिश्चितिताओं का दबाव भी रहा है। नए आर्डर आने से आउटपुट में तेजी दर्ज की गई है और इसका सूचकांक सितंबर के 51.6 से बढ़कर अक्टूबर में 53.0 हो गया। अक्टूबर में लगातार आठवें माह नए कारोबार में बढोतरी दर्ज की गई है, और इसकी गति जुलाई के बाद सबसे अधिक तेज रही है।

आलोच्य माह में नई भर्तियों में मार्च 2011 के बाद दूसरी बड़ी तेजी रही है। विनिर्माण क्षेत्र में भी नई भर्तियां बढ़ी हैं लेकिन इसकी रफ्तार सेवा क्षेत्र से कम रही है। ईंधन और खाद्य पदार्थों की कीमतों में रही तेजी और कर्मचारियों के वेतन में बढोतरी के कारण सेवा प्रदाताओं का खर्च अक्टूबर में बढ़ा है लेकिन इसकी रफ्तार धीमी रही है। सितंबर में यह दस माह के उच्चतम स्तर पर रहा था। रिपोर्ट की लेखिका आईएचएस मार्किट की मुख्य अर्थशास्त्री पॉलिना डी लीमा ने कहा, ये आंकड़े तीसरी तिमाही के शुरूआत में आर्थिक विकास की मजबूती को दर्शाते हैं। अक्टूबर में लागत मूल्य की मुद्रास्फीति दर राहत वाली रही है। इसके साथ ही नई भर्तियों में साढ़े सात साल के बाद इतनी तेजी रही है। -एजेंसी
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.