समय पर उड़ान भरने में स्पाइसजेट अव्वल, देश के 4 बड़े हवाई अड्डों से भरी उड़ान

Samachar Jagat | Tuesday, 25 Sep 2018 01:36:07 PM
SpiceJet tops fly on time

नई दिल्ली। देश के 4 बड़े हवाई अड्डों पर समय पर उड़ान भरने के मामले में अगस्त में किफायती विमान सेवा कंपनी स्पाइसजेट अव्वल रही। वहीं, यात्रियों की सबसे अधिक शिकायतें एयर ओडिशा और एयर डेक्कन के खिलाफ आई। नागर विमानन महानिदेशालय द्बारा जारी आँकड़ों के मुताबिक अगस्त में दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद और बेंगलुरु हवाई अड्डों पर स्पाइसजेट की 87.4 फीसदी उड़ानें समय पर रवाना हुईं।

इंडिगो और गो एयर की 87.2 फीसदी और विस्तारा की 83.6 फीसदी उड़ानें समय पर रवाना हुईं। इस मामले में सरकारी विमान सेवा कंपनी एयर इंडिया का प्रदर्शन सबसे खराब रहा। उसकी 75.3 फीसदी उड़ानें ही समय पर जा सकीं। तय समय से 15 मिनट के भीतर रवाना होने पर उड़ान को समय पर माना जाता है।

यात्रियों की शिकायत के मामले में एयर ओडिशा का प्रदर्शन सबसे खराब रहा। प्रति एक लाख यात्री उसके खिलाफ 362 शिकायतें आईं। इस मामले में राष्ट्रीय औसत 5.9 शिकायत प्रति लाख यात्री का रहा। प्रति एक लाख यात्री एयर डेक्कन के खिलाफ 218 शिकायतें, एयर इंडिया के खिलाफ 16, जेट एयरवेज और जेट लाइट के खिलाफ 12, ट्रूजेट के खिलाफ 6, गोएयर के खिलाफ 4, इंडिगो के खिलाफ 3, स्पाइसजेट के खिलाफ 2 और एयर एशिया और विस्तारा के खिलाफ एक-एक शिकायत मिली।

अगस्त में यात्रियों की सबसे ज्यादा शिकायत बैगेज को लेकर रही। कुल शिकायतों में 28 फीसदी बैगेज को लेकर थी। इसके अलावा 27.8 फीसदी शिकायतें उड़ान की समस्या के बारे में, 24.7 फीसदी ग्राहक सेवा को लेकर, 6.6 फीसदी  कर्मचारियों के व्यवहार को लेकर और 2.8 प्रतिशत रिफंड को लेकर रही। 

देश के कुछ हिस्सों में बारिश और बाढ की वजह से अगस्त में बड़ी संख्या में उड़ानें रद्द करनी पड़ीं। जूम एयर की सभी उड़ानें रद्द रहीं। एयर ओडिशा की 66 प्रतिशत और एयर डेक्कन की पाँच प्रतिशत उड़ानें रद्द रहीं। ट्रूजेट की भी 4.44 प्रतिशत उड़ानें रद्द रहीं। विमान रद्द होने का राष्ट्रीय औसत 2.27 प्रतिशत रहा। बड़ी विमान सेवा कंपनियों में एयर इंडिया की सबसे ज्यादा उड़ानें रद्द हुईं।

उसकी 3.17 फीसदी उड़ानें रद्द करनी पड़ीं। इंडिगो की 2.52 फीसदी, जेट लाइट की 2.48 फीसदी, जेट एयरवेज की 0.69 फीसदी, एयर एशिया की 0.56 फीसदी, स्पाइसजेट की 0.47 फीसदी, विस्तारा की 0.42 फीसदी और गोएयर की 0.30 प्रतिशत उड़ानें रद्द हुईं।

सबसे ज्यादा 50.7 प्रतिशत उड़ानें मौसम संबंधी कारणों से रद्द करनी पड़ी। एक उड़ान रद्द होने की वजह से उसी विमान की अगली उड़ान रद्द करनी पड़ती है। इस कारण 39.1 फीसदी उड़ानें रद्द हुईं। तकनीकी कारणों से 6.9 प्रतिशत और परिचालन संबंधी कारणों से 1.8 फीसदी उड़ानें रद्द हुईं। वाणिज्यिक कारणों से विमान सेवा कंपनियों ने 1.6 फीसदी उड़ानें रद्द कीं।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.