सरकार चाहती है, सेबी इंडिगो के अंदरूनी मामलों की गहराई में जाए, सभी निेदशकों की पड़ताल हो

Samachar Jagat | Friday, 12 Jul 2019 08:55:50 AM
The government wants to go deep into the internal affairs of SEBI Indigo, investigate all the observers

नई दिल्ली। सरकार चाहती है कि नियामक सेबी इंडिगो एयरलाइन की कंपनी इंटरग्लोब एविएशन के सभी निदेशकों और कंपनी के दोनों मुख्य प्रवर्तकों के साथ जुड़ी हर इकाई की जांच करे तथा गड़बड़ी पाए जाने पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करे। निजी क्षेत्र की इंडिगो इस समय देश की सबसे बड़ी विमानन सेवा कंपनी है।

सरकारी अधिकारियों के अनुसार इंडिगो के संबंध में जो बाते सामने आ रही हैं उनमें कंपनी संचालन स्वस्थ व्यवस्था , निष्पक्ष व्यवसाय के नियमों और भेदिया कारोबार रोधी नियमों का उल्लंघन लग रहा है। अधिकारी चाहते हैं कि कंपनी के सभी निदेशकों और आपसी मतभेद में फंसे दोनों मुख्य प्रवर्तकों से जुड़ी सभी इकाइयों की जांच हो।

उल्लेखनीय है कि इंटरग्लोब एविएशन लि. (आईजीएएल) देश की सबसे बड़ी एयरलाइन इंडिगो की मूल कंपनी है। कंपनी के सह प्रवर्तकों राकेश गंगवाल तथा राहुल भाटिया के बीच विवाद छिड़ा हुआ है। इस विवाद का असर कंपनी के शेयर मूल्य पर भी पड़ा है। 

कंपनी संचालन के मुद्दे पर इंटरग्लोब एविएशन में प्रवर्तकों के बीच विवाद गहराने के एक दिन बाद राहुल भाटिया समूह ने बुधवार को कहा था कि सभी संबद्ध पक्षों के साथ लेनदेन उनसे उचित दूरी रखते हुये बाजार मूल्य के मुताबिक ही किये गये। गंगवाल और उनसे संबद्ध लोगों की आईजीएएल में करीब 37 प्रतिशत हिस्सेदारी है। गंगवाल ने कंपनी में कामकाज के संचालन (गवर्नेंस) का मुद्दा उठाया है। विशेषरूप से उन्होंने कंपनी और आईजीई समूह के बीच लेनदेन को लेकर सवाल खड़ा किया है। भाटिया समूह की आईजीएएल में करीब 38 प्रतिशत हिस्सेदारी है। एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.