नीतिगत दर में कमी का लाभ ग्राहकों को अपेक्षाकृत अधिक ऊंचा और अधिक तेजी से देना चाहिए: दास

Samachar Jagat | Friday, 07 Jun 2019 03:27:08 PM
The policy rate reduction should be given to the customers in a higher and faster wayDas

मुंबई। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास नीतिगत ब्याज दर में कटौती का लाभ ग्राहकों को देने के मोर्चे पर बैंकों की स्थिति की सराहना करते दिखे हालांकि, उन्होंने साथ में यह भी कहा है कि उन्हें नीतिगत दर (रेपो) में कमी का लाभ ग्राहकों को अपेक्षाकृत अधिक ऊंचा और अधिक तेजी से देना चाहिए। हालांकि, इससे पहले दास इस मामले में बैंकों की मद्धिम चाल पर नाराजगी जताते रहे हैं।

सैट ने को-लोकेशन मामले में सेबी के बैंक गारंटी देने के प्रस्ताव को खारिज किया

इससे पहले दास की अध्यक्षता में मौद्रिक नीति समिति ने चालू वित्त वर्ष की दूसरी द्बैमासिक समीक्षा में रेपो दर को 0.25 प्रतिशत घटाकर 5.75 प्रतिशत कर दिया है। लगातार तीन बार में केंद्रीय बैंक नीतिगत दर में 0.75 प्रतिशत की कटौती कर चुका है। दास ने यहां मौद्रिक नीति समीक्षा के बाद कहा, पूर्व में यह देखने में आया है कि नीतिगत दर में कटौती का लाभ ग्राहकों तक पहुंचने में चार से छह महीने लगते हैं। लेकिन इस बार यह लाभ तेजी से स्थानांतरित होना चाहिए।

रिजर्व बैंक के रेपो दर घटाने के बाद शुरुआती कारोबार में रुपये में मामूली तेजी
 
उन्होंने बताया कि बैंकों ने इससे पिछली दो मौद्रिक समीक्षाओं में ब्याज दर में 0.50 प्रतिशत कटौती में से 0.21 प्रतिशत का लाभ उपभोक्ताओं को दिया है। यह भारांकित औसत ऋण दर कटौती पर आधारित है। हालांकि इसी दौरान पुराने कर्ज की लागत 0.04 प्रतिशत बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि आगे चलकर उपभोक्ताओं को नीतिगत कटौती का अधिक ऊंचा और अधिक तेजी से लाभ मिलेगा। गवर्नर ने कहा कि इसका प्रभाव उपभोक्ता और दोपहिया ऋण में मिल पाएगा। -एजेंसी

अजीम प्रेमजी से कर्मचारियों से कहा, रिशद के पास नया नजरिया, विप्रो को नई ऊंचाइयों पर ले जाएंगे



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.