अदालत ने डीम्ड विवि में एमबीबीएस पाठ्यक्रमों के लिए 13 लाख रुपये अंतरिम शुल्क तय किए

Samachar Jagat | Saturday, 09 Jun 2018 12:04:51 PM
Court imposes interim tariff of 13 lakh for MBBS courses in Deemed University

चेन्नई। मेडिकल पाठ्यक्रमों के लिये 25-35 लाख रुपये की सालाना फीस पहली नजर में काफी अधिक होने की बात करते हुए मद्रास उच्च न्यायालय ने यूजीसी की फीस तय करने वाली समिति के फैसला करने तक तमिलनाडु के डीम्ड विश्वविद्यालयों को अंतरिम कदम के तौर पर एमबीबीएस पाठ्यक्रमों के लिये 13 लाख रुपये वसूलने को कहा है।

State Bank of India में निकली वैकेंसी, करे आवेदन

मुख्य न्यायाधीश इंदिरा बनर्जी और न्यायमूर्ति पी टी आशा की पीठ ने जवाहर लाल षन्मुगम की जनहित याचिका का निस्तारण करते हुए यह निर्देश दिया। याचिकाकर्ता ने कहा कि ये संस्थान काफी ट्यूशन शुल्क वसूलते हैं और सारणीबद्ध कॉलम में इसका ब्योरा दिया।

पीठ ने अपने आदेश में कहा, ''ऐसा लगता है कि 25 से 35 लाख रुपये सालाना के बीच फीस पहली नजर में काफी अधिक हैं और यूजीसी द्वारा गठित शुल्क समिति को गहन अध्ययन करना चाहिये और ऐसे संस्थानों द्वारा वसूले जाने वाले शुल्कों के बारे में अनुशंसा करनी चाहिये।

कर्नाटक राज्य पुलिस ने निकाली भर्ती

अदालत ने इन विश्वविद्यालयों में शुल्क ढांचा तय करने के लिये 30 जून तक समिति गठित करने के यूजीसी के शपथ पत्र को रिकॉर्ड में लिया। अदालत ने यह साफ कर दिया कि सभी प्रासंगिक कारकों को ध्यान में रखते हुए शुल्क का नियमन करने की आवश्यकता है। पीठ ने निर्देश दिया कि यूजीसी की शुल्क समिति सभी पक्षों को सुनने के बाद छह सप्ताह के बाद अपनी सिफारिश सौंपे।- एजेंसी

75 प्रतिशत से ज्यादा नम्बर लाने वाले विद्यार्थियों को भी मिलेंगे लेपटॉप: चौहान

फैशन की दुनिया में करना चाहते है अपना नाम तो ग्लैमर से भरा है मॉडलिंग का करियर

स्टेनोग्राफर के पदों पर करें आवेदन, वेतन 26,775 रुपए प्रति माह



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.