निजी स्कूलों में मनमानी फीस वृद्धि पर अंकुश लगना शुरू

Samachar Jagat | Sunday, 04 Nov 2018 10:04:23 AM
Private schools begin to curb rising arbitrary fee

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नोएडा। निजी स्कूलों द्वारा मनमाने तरीके से फीस बढ़ाने पर अब अंकुश लगना शुरू हो गया है। उत्तर प्रदेश में 12 सितम्बर से फी- रेगुलेशन एक्ट लागू होने के बाद शनिवार को जिलाधिकारी गौतम बुद्ध नगर बृजेश नारायण सिंह ने ग्रेटर नोएडा के आईआईएमटी इंजनियरिग कॉलेज के सभागार में जनपद के सभी निजी स्कूलों के संचालकों व प्रतिनिधियों के साथ एक बैठक की। इस दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि जो स्कूल 25 हजार रुपये से ज्यादा वार्षिक फीस वसूल रहे हैं वे फी- रेगुलेशन एक्ट में आएंगे।


विद्युत विभाग में नौकरी पाने का मौका, यहां निकली भर्ती

उन्होंने कहा कि यहां के सभी निजी स्कूल अपनी वेबसाइट पर एक सप्ताह के भीतर अपने स्कूल की फीस का विवरण अपलोड करें। उन्होंने बताया कि मनमाने तरीके से स्कूलों द्वारा बढ़ाई जा रही फीस को रोकने के लिए जिले में बी- रेगुलेटरी कमिटी का गठन किया गया है इस कमेटी के अध्यक्ष जिलाधिकारी गौतम बुद्ध नगर हैं। उन्होंने कहा कि यह कमेटी सभी स्कूलों पर बारीकी से नजर रखेगी, तथा अभिभावकों के द्वारा दी गई शिकायतो का निवारण करेगी।

उन्होंने कहा कि जो स्कूल फी- रेगुलेशन एक्ट का उल्लंघन करेंगे, उनके ऊपर पहली बार एक लाख व दूसरी बार 5 लाख रुपये का जुर्माना किया जाएगा। जिलाधिकारी ने कहा कि कोई भी स्कूल बच्चों के ऊपर अपनी दुकान से वर्दी व किताब लेने के लिए दबाव नहीं डाल सकता। छात्र किसी भी दुकान से अपनी मर्जी से वर्दी व किताब खरीद सकते हैं। उन्होंने कहा कि कोई भी स्कूल 5 साल से पहले अपने स्कूल की वर्दी चेंज नहीं कर सकता। वर्दी चेंज करने से पहले स्कूल को फी- रेगुलेटरी कमिटी को सूचित करना होगा।

स्नातक पास बेरोजगारों के लिए नौकरी पाने का सुनहेरा मौका यहां निकली भर्ती

डीएम ने सभी स्कूलों के प्रतिनिधियों को साफ तौर पर चेताया कि अगर यहां के स्कूल अपनी मनमानी करेंगे तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि कई बार यह भी देखने में आया है कि स्कूल बच्चों से मोटी फीस लेते हैं लेकिन वहां पढ़ाने वाले अध्यापकों को नाममात्र का वेतन दिया जाता है। उन्होंने बताया कि फी- रेगुलेशन एक्ट के तहत स्कूल को यह भी बताना पड़ेगा कि वे अपने शिक्षकों को कितना वेतन देते हैं। इस बैठक में जिले के सभी नाम ही वह बड़े स्कूल के संचालक व प्रतिनिधियों ने भाग लिया। - एजेंसी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.