फेलोशिप और किसी भी अनुसंधान के बारे में जानने के लिए जारी होगा 'संपूर्ण’ पोर्टल

Samachar Jagat | Sunday, 10 Jun 2018 12:20:54 PM
sampurn portal will continue to learn about fellowships and any research

नई दिल्ली। सरकार विज्ञान पर एक संपूर्ण पोर्टल लॉन्च करने वाली है, जिस पर विभिन्न छात्रवृत्ति योजनाओं, देश तथा विदेशों में हो रहे वैज्ञानिक अनुसंधानों तथा फेलोशिप आदि के बारे में एक ही जगह जानकारी मिल सकेगी। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव आशुतोष शर्मा ने बताया, यह पोर्टल भारत के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी का संपूर्ण मानचित्र होगा।

डीयू में स्नातक विषयों में दाखिले के लिए सबसे ज्यादा दिल्ली से आवेदन

इस पर देश की विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी से जुड़ी हर जानकारी उपलब्ध होगी, मसलन गाँव में बैठा छात्र भी यह जान सकेगा कि सरकार या निजी क्षेत्र की ओर से विज्ञान की पढ़ाई करने वालों के लिए छात्रवृत्ति तथा फेलोशिप की या अन्य कौन-कौन सी योजनाएँ है। वहीं, वैज्ञानिक या विज्ञान में रुचि रखने वाले अन्य लोग देश की किसी भी प्रयोगशाला के अनुसंधान के बारे में जानकारी हासिल कर सकेंगे।

उन्होंने बताया कि यह शैक्षणिक पोर्टल नहीं होगा, लेकिन विज्ञान के किसी भी विषय के बारे में जानकारी के इच्छुक लोग सर्च में विषय वस्तु डालकर उसके बारे पूरी जानकारी हासिल कर सकेंगे। यह 360 डिग्री पोर्टल होगा जिस पर विज्ञान और प्रौद्योगिकी से संबद्ध सभी बातें उपलब्ध होंगी। स्कूल-कॉलेज के छात्रों, पीएचडी छात्रों तथा वैज्ञानिकों सबके लिए कुछ न कुछ होगा। इसका उद्देश्य ही सबको जोड़ना है।

कॉलेजों में पुराने कोर्स बंद करने पर एसएफआई ने जताया एतराज

शर्मा ने बताया कि इस पोर्टल पर देश में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में हो रहे काम के साथ ही विदेशों में हो रहे काम के बारे में भी जानकारी मिल सकेगी। विज्ञान से संबंधित संगष्ठियों और सम्मेलन आदि के बारे में भी इस पर जानकारी होगी। उन्होंने बताया कि यह पोर्टल तैयार हो चुका है और सिर्फ औपचारिक लॉन्चिग की प्रतीक्षा है।

अभी विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् तथा जैव प्रौद्योगिकी विभाग आते हैं, जिनके तहत अलग-अलग प्रयोगशालाएं तथा उनके अपने-अपने पोर्टल हैं। 'संपूर्ण पोर्टल’ पर सरकारी प्रयोगशालाओं के अलावा निजी प्रयोगशालाओं को भी जोड़ने की योजना है।

इसके अलावा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी पर एक ऑनलाइन डिजिटल टीवी शुरू करने की दिशा में भी काम चल रहा है। यह एक घंटे का कार्यक्रम होगा जो ऑनलाइन चैनल के अलावा दूरदर्शन के राष्ट्रीय चैनल पर भी प्रसारित किया जायेगा। इस पर विज्ञान से जुड़ी गतिविधियों की जानकारी दी जायेगी। साथ ही प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता आदि के माध्यम से विज्ञान के प्रति लोगों में रुचि जगाने का काम भी होगा। एजेंसी

अदालत ने डीम्ड विवि में एमबीबीएस पाठ्यक्रमों के लिए 13 लाख रुपये अंतरिम शुल्क तय किए



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.