खतने के दौरान 23 दिन का बच्चा बुरी तरह से घायल, मानवाधिकार आयोग ने मुआवजे का दिया आदेश

Samachar Jagat | Tuesday, 08 Jan 2019 09:21:35 AM
23-day-old child wounded badly during circumcision, Human Rights Commission ordered compensation

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इंटरनेट डेस्क:  केरल के मानवाधिकार आयोग ने राज्य सरकार को खतना करने के दौरान  23 दिन के एक बच्चे के बुरी तरह घायल होने के कारण बच्चे के परिवार को मुआवजा देने के निर्देश दिए है जानकारी के अनुसार चिकित्सकीय लापरवाही की वजह से खतने के दौरान बच्चे का निजी अंग बुरी तरह घायल हो गया था। मानवाधिकार आयोग ने इस घटना को लेकर कहा कि जिस अस्पताल में बच्चे की सर्जरी हुई उस जगह सुविधाओं की बेहद कमी थी


Old Post Image

 


एक बयान में केरल राज्य मानवाधिकार आयोग ने कहा है उत्तरी मलप्पुरम जिले के एक अस्पताल में खतना के दौरान बच्चे के निजी अंग का 75 प्रतिशत हिस्सा कट गया है ऐसे में खतना करने वाले डॉक्टर को ऑपरेशन करने का महज तीन साल का ही अनुभव था इस मामले को लेकर केएसएचआरसी के सदस्य ने राज्य के मुख्य सचिव को बच्चे के परिवार को अंतरिम मुआवजे के तौर पर दो लाख रुपए देने के निर्देश दिए

Old Post Image


खबरो की माने तो अनुभव ना होने के कारण बच्चा बुरी तरह से घायल हो गया है आयोग ने निर्देश देते हुए राज्य के स्वास्थ्य विभाग से एक रिपोर्ट भी मांगी है साथ ही बच्चों की सर्जरी के लिए अभिभावकों और डॉक्टरों के बीच और ज्यादा जागरूकता फैलाने के भी निर्देश अधिकारियों को दिए है ऐसे में अपनी रिपोर्ट में स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि बच्चे के अभिभावक को उसके उपचार के लिए डेढ़ लाख रुपए से ज्यादा खर्च करना पड़ा
वैसे जानकारी के लिए आपकों बतादें की दक्षिणी राज्य सहित दुनिया भर में मौजूद मुस्लिम समुदाय में खतना एक प्रथा होती है इस प्रथा के निभाने के दौरान कई बार छोटे बच्चे बुरी तरह से जख्मी हो जाते है जिसके लिए देश के कई राज्यों मे एक्सपर्ट होते है लेकिन फिर भी इसके बावजूद लापरवाही की खबरें सामने आती रहती है

Old Post Image

 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.