कोर्ट ने नाबालिग से रेप के आरोप में व्यक्ति को किया बरी

Samachar Jagat | Thursday, 23 Aug 2018 10:24:39 AM
Court acquits person on charges of raping minor

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने 15 वर्षीय चचेरी बहन से बलात्कार के आरोप में 10 साल की सजा काट रहे फरीदाबाद निवासी एक व्यक्ति को यह कहते हुए बरी कर दिया है कि अपराध सिद्ध नहीं हो पाया। न्यायमूर्ति एन वी रमण और न्यायमूर्ति मोहन एम शांतनगौदर की पीठ ने पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के उस आदेश को दरकिनार कर दिया जिसमें शाम सिंह और उसके भाई जय सिंह को दोषी ठहराने के 2011 के निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखा गया था।

बेहोश होने तक पांच साल की चचेरी बहन के साथ ये करता रहा युवक 

जेल में सात साल की सजा काट चुके शाम सिंह ने जहां शीर्ष अदालत का रुख किया, वहीं उसके भाई एवं सह आरोपी जय सिंह ने याचिका दायर नहीं की क्योंकि वह पहले ही 10 साल की सजा पूरी कर चुका है। शीर्ष अदालत ने इस बात का संज्ञान लिया कि मामले में पंचायत करने वाले बचाव पक्ष के दो गवाहों ने बलात्कार के अपराध का जिक्र नहीं किया था और न ही मुकदमे के दौरान उनके बयानों का विरोध किया गया।

शादी का झांसा देकर पड़ोसी युवक ने 15 साल की किशोरी के साथ 11 महिनों तक किया ऐसा घिनौना काम 

न्यायालय ने कहा कि दोनों परिवारों के बीच लंबे समय से चले आ रहे विवादों के चलते बदला लेने के लिए आरोपियों को झूठा फंसाए जाने की पूरी आशंका है जैसा कि कहा गया है। उच्च न्यायालय ने मामले में दोनों भाइयों की दोषसिद्धि को बरकरार रखते हुए सबूतों के अभाव में हालांकि उनकी मां को बरी कर दिया था।

पहले बच्ची के साथ किया दुष्कर्म और फिर... 

शीर्ष अदालत ने अपने आदेश में उल्लेख किया कि आरोप लगाया गया है कि 2001 में हुई कथित घटना के समय आरोपियों की पत्नी, बच्चे, बहन और मां भी मकान में मौजूद थी। न्यायालय ने कहा कि इस तरह के परिदृश्य में घटना के होने की संभावना नजर नहीं आती। इसने कहा कि घटना से संबंधित तथ्य और परिस्थितियां संदेहास्पद हैं।

दर्ज प्राथमिकी में कहा गया था कि अगस्त 2001 में दोनों आरोपी लड़की को जबरन अपने घर में ले गए और रस्सी से उसके हाथ बांधकर उससे बलात्कार किया। दोनों आरोपियों ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज किया था और कहा था कि परिवारों के बीच दुश्मनी के चलते उन पर झूठे आरोप लगाए गए हैं। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.