कोर्ट ने 60 वर्षीय महिला अभिभावक को 14 साल पहले छोड़ी गई लड़की को गोद लेने की इजाजत दी

Samachar Jagat | Thursday, 10 Jan 2019 07:34:38 PM
Court allowed the 60 year old lady guardian to adopt a girl left 14 years ago

नई दिल्ली। दिल्ली की एक अदालत ने एक नाबालिग लड़की की 60 वर्षीय अभिभावक को उसे गोद लेने की इजाजत दे दी, क्योंकि दोनों के बीच मां-बेटी का मजबूत रिश्ता है। कोर्ट ने मामले में प्रक्रियागत कमियों के बावजूद बुजुर्ग महिला की याचिका को स्वीकार कर लिया।

इस नाबालिग लड़की को 2004 में दो साल की उम्र में छोड़ दिया गया था। जिला न्यायाधीश गिरीश कठपालिया ने कहा कि लड़की के हित में सबसे अच्छा यही है कि उसे महिला को गोद लेने दिया जाए जो अविवाहिता है और नियुक्त अभिभावक के तौर पर एक दशक से ज्यादा समय से लड़की का ध्यान रख रही है।

लड़की अब 16 वर्ष की हो गई है और उसके और महिला के बीच गहरा रिश्ता है। पेशे से पत्रकार इस महिला को एक एडोप्शन सोसाइटी ने लड़की का अभिभावक नियुक्त किया था। अदालत ने कहा कि महिला और लड़की ने करीब डेढ़ दशक में मां-बेटी का मजबूत रिश्ता विकसित किया है।

घर और उसकी पढ़ाई पर रिपोर्ट के बाद महिला को सोसाइटी के समक्ष गोद लेने की अर्जी दायर करने का निर्देश देना, बेकार की कवायद है। अदालत ने कहा कि याचिकाकर्ता (बुजुर्ग महिला) लड़की की शिक्षा का अच्छी तरह वहन कर रही है जो उनकी एकमात्र जिम्मेदारी हैं।

लड़की उनके साथ खुश रह रही है। न्यायाधीश कठपालिया ने लड़की से बात की, जिसके बाद इस रिश्ते ने अदालत को कायल किया। अपनी बातचीत के बाद, न्यायाधीश ने कहा कि उन्होंने पाया कि वह खुश है और आत्मविश्वास भरी है और अपनी अभिभावक के साथ उसका मजबूत रिश्ता है। कोर्ट ने कहा कि उसे गोद लेने की राह में प्रक्रियागत खामियों को आने नहीं दिया जाएगा और कहा कि मामले को बाल अधिकार मुद्दे के तौर पर अधिक देखा जाना चाहिए।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.