संगम नगरी में गंगा-यमुना का रौद्र रूप,हजारों बेघर

Samachar Jagat | Thursday, 19 Sep 2019 05:47:14 PM
Ganga-Yamuna rage in Sangam city, thousands of homeless

प्रयागराज।उत्तर प्रदेश के मैदानी इलाकों में रूक रूक कर हो रही बारिश के बीच संगम नगरी प्रयागराज में गंगा और यमुना नदियों में आयी बाढ़ से 15० से अधिक गांव जलमग्न है और हजारों लोग अपना घर द्बार छोड़ कर सुरक्षित स्थानो की ओर पलायन कर गये है।


loading...

आधिकारिक सूत्रों ने गुरूवार को बताया कि राजस्थान और मध्य प्रदेश के बंधों से छोड़े गए पानी से दोनो नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। गंगा फाफामऊ में खतरे के निशान 84. 73 मीटर से 35 सेमी ऊपर 85.08 मीटर पर बह रही हैं जबकि नैनी में यमुना लाल निशान को पार कर 85.00 मीटर पर बह रही हैं। रसूलाबाद श्मशान घाट पानी में डूब जाने के कारण वहां अंतिम संस्कार कर्म बाधित है हालांकि बाढè के कारण दारागंज में सड़क पर चितायें सजायी जा रही है।

बांधों और बैराजों से पिछले दिनो छोड़े गये लगभग 38 लाख क्यूसेक पानी का असर दोनो नदियों में दिखलाई पडने लगा है। नदियों ने रौद्र रूप धारण कर हजारों एकड़ खड़ी फसल को अपनी चपेट में ले लिया है और हजारों लोग बेघर हो गये हैं।

शहर के राजापुर,नेवादा, कछार, बेली, मऊ सरैया, नींवा कछार, द्रौपदी घाट, शंकर घाट, रसूलाबाद, शिवकुटी, चिल्ला, सलोरी, बघाड़ा, सदियाबाद, दारागंज करेली, करैलाबाद और जे के आशियान समेत 35 मुहल्ले और करीब 150 गांव बाढ़ की चपेट में हैं। शहर में 1० तथा देहात में एक बाड़ राहत शिविर खोला गया है जिसमें बुधवार रात तक तीन हजार बाढè पीड़ति शरण ले चुके हैं।

तटीय क्षेत्रों में बसे मठ-मंदिरों में भी पानी घुस गया है। बाढè के कारण झूंसी स्थित टीकरमाफी आश्रम, रामलोचन आश्रम के वेद विद्यालयों में पानी भर गया। कैलाश टेकरी आश्रम, गंगोली शिवाला, योगानंनद आश्रम और प्रभुदत्त ब्रह्मचारी आदि के आश्रम में भी पानी भर गया है।-(एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.