नहीं रहे जैन मुनि तरुण सागर महाराज, 51 वर्ष की उम्र में ली अंतिम सांस  

Samachar Jagat | Saturday, 01 Sep 2018 08:25:18 AM
Jain Muni Tarun Sagar Maharaj pass away

जैन मुनि और राष्ट्र संत तरुण सागर जी महाराज का दिल्ली में 51 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। खबरों के मुताबिक उन्हें 20 दिन पहले पीलिया हुआ था, जिसके बाद उन्हें मैक्स अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। जानकारी के अनुसार जैन मुनि ने इलाज कराने से मना कर दिया था और कृष्णा नगर (दिल्ली) स्थित राधापुरी जैन मंदिर चातुर्मास स्थल पर जाने का निर्णय लिया।

मुनिश्री अपने अनुयायियों के साथ दिल्ली के कृष्णा नगर स्थित राधापुरी जैन मंदिर चातुर्मास स्थल पर थे। जानकारी के मुताबिक मुनिश्री अपने गुरु पुष्पदंत सागर महाराजजी की स्वीकृति के बाद संलेखना (आहार-जल न लेना) कर रहे थे। तरुण सागर महाराज जी के गुरु पुष्पदंत सागर महाराज जी ने भी एक वीडियो जारी किया। इसमें उन्होंने बताया कि उनके शिष्य की हालत गंभीर है।

उन्होंने इस संबंध में एक पत्र भी लिखा। साथ ही, मुनिश्री सौरभ सागर तथा मुनिश्री अरुण सागर से दिल्ली पहुंचने और तरुण सागर जी की संलेखना में सहयोग करने के लिए कहा। तरुण सागर जी अपने कड़वे प्रवचनों के लिए प्रसिद्ध हैं। इस कारण  से उन्हें क्रांतिकारी संत भी कहा जाता है।

वहीं, कड़वे प्रवचन नामक उनकी पुस्तक काफी प्रचलित है। समाज के कई वर्गों को एकजुट करने में उन्होंने काफी प्रयास किए हैं। तरुण सागर जी को मध्यप्रदेश सरकार ने 6 फरवरी 2002 को राजकीय अतिथि का दर्जा दिया था। तरुण सागर जी महाराज का मूल नाम पवन कुमार जैन है।

उनका जन्म दमोह (मध्यप्रदेश) के गांव गुहजी में 26 जून, 1967 को हुआ। मुनिश्री ने 8 मार्च 1981 को घर छोड़ दिया। इसके बाद उन्होंने छत्तीसगढ़ में दीक्षा ली। जैन धर्म के अनुसार मृत्यु को पास देखकर धीरे-धीरे खानपान त्याग देने को संथारा या संलेखना (मृत्यु तक उपवास) कहा जाता है।

इसे जीवन की अंतिम साधना भी माना जाता है। राजस्थान उच्च न्यायालय ने 2015 में इसे आत्महत्या जैसा बताते हुए उसे भारतीय दंड संहिता 306 और 309 के तहत दंडनीय बताया था। दिगंबर जैन परिषद ने हाईकोर्ट के इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी। सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी थी।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.