राजस्थान में मायावती को लगा झटका, गहलोत का चला जादू, बसपा के 6 विधायक शामिल हुए कांग्रेस में 

Samachar Jagat | Tuesday, 17 Sep 2019 10:57:28 AM
Mayawati got a shock in Rajasthan, Gehlot's magic, 6 BSP MLAs joined Congress

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान के जादूगर ने जादूगरी दिखा दी। कांग्रेस पार्टी में अपनी मजबूत दावेदारी बनाएं रखने में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एक बार फिर कामयाब हो गएं। सरकार बनने के दस माह के भीतर ही बसपा के 6 विधायकों को कांग्रेस का रास्ता दिखाया। कांग्रेस की विधानसभा में अब 106 सीटें हो गई है। अशोक गहलोत ने सीधे-सीधे दिल्ली आलाकमान तक भी मैसेज भिजवा दिया कि राजस्थान में केवल एक ही जादूगर है वो केवल अशोक गहलोत है।

राजस्थान में मायावती को उन्हीं की पार्टी के विधायकों से गहरा झटका लगा दिया। राज्य में बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के सभी छह विधायकों ने कांग्रेस पार्टी जॉइन कर ली। कांग्रेस में शामिल एक विधायक ने कहा कि उन्होंने ऐसा अपने-अपने क्षेत्र के विकास के लिए किया है। सभी विधायक अब तक बाहर से कांग्रेस को समर्थन दे रहे थे। कांग्रेस में शामिल हुए बीएसपी विधायक जोगिंदर सिंह ने कहा कि वे सभी 6 विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। हमारे सामने बहुत सी परेशानियां हैं। एक तरफ हम उनकी सरकार का समर्थन कर रहे हैं और दूसरी तरफ हम उनके खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं।

जोगिंदर सिंह अवाना ने आगे कहा कि ऐसे में अपने क्षेत्र के विकास के बारे में सोचते हुए, अपने लोगों का भला सोचने हुए हमने यह कदम उठाया है। बहुजन समाज पार्टी के सभी छह विधायकों ने राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष को इसके संबंध में एक पत्र भी सौंपा। विधानसभा अध्यक्ष सी पी जोशी ने इसकी पुष्टि की। बसपा के विधायक राजेन्द्र गुढा (उदयपुरवाटी), जोगेंद्र सिंह अवाना (नदबई), वाजिब अली (नगर), लाखन सिंह मीणा (करोली), संदीप यादव (तिजारा) और दीपचंद खेरिया ने कांग्रेस की सदस्यता ली। बीएसपी विधायकों के कांग्रेस में विलय से प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार और अधिक मजबूत और स्थिर हो जाएगी।

कांग्रेस के एक नेता ने कहा, विधायक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लगातार संपर्क में थे। प्रदेश की 200 सीटों वाली विधानसभा में अभी कांग्रेस के 100 विधायक हैं और उसके सहयोगी राष्ट्रीय लोकदल के पास एक विधायक है। सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी को 13 निर्दलीय विधायकों में से 12 का बाहर से समर्थन प्राप्त है जबकि दो सीटें खाली हैं। राज्य में 2009 में भी अशोक गहलोत के पहले कार्यकाल के दौरान, बीएसपी के सभी छह विधायकों ने कांग्रेस का दामन थामा था और तत्कालीन कांग्रेस सरकार को स्थिर बनाया था। उस समय सरकार स्पष्ट बहुमत से पांच कम थी। 


 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.