उप्र में कानून व्यवस्था को दुरूस्त बनाने के लिए 2 हजार से अधिक अपराधी भेज गए जेल: सिंह 

Samachar Jagat | Saturday, 04 Aug 2018 04:52:35 PM
More than 2,000 criminals sent to jail to improve law and order in UP: Singh

बाँदा। उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने कहा है कि राज्य को अपराध मुक्त बनाने के लिए चलाए गए अभियान में अब तक दो हजार से अधिक इनामी वांछित अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेज गया हैं। सिंह ने शनिवार को यहां पत्रकारों से कहा कि अपराधियों के खिलाफ चलाए गए अभियान में अब तक हुई मुठभेड़ों में पुलिस ने 62 इनामी बदमाशों को ढ़ेर किया है।

जबकि दो हजार से अधिक को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। उन्होने बताया कि अपराधियों पर की गई गैंगेस्टर एक्ट के तहत उनकी 197 करोड़ रुपए की संपत्ति जप्त की गई है। अपराधी और भूमाफिया चिन्हित कर कठोर कार्रवाई की जा रही है। अपराध के दम पर जुटाई गई संपत्ति को भी जप्त किया जा रहा है।

राजनाथ सिंह 2 दिवसीय दौरे पर लखनऊ पहुंचे, राजनीतिक और अन्य लोगों से की मुलाकात

सिंह ने कहा कि पुलिस महिलाओं की सुरक्षा के प्रति सजग है। महिला हेल्पलाइन 1090 में प्रतिदिन 15-16 हजार कॉल पर प्रभावी कार्रवाई की जा रही है। डायल 100 , रोमियो, एंबुलेंस , फायर सर्विस , वूमेन हेल्पलाइन आदि सभी सेवाओं को एक दूसरे से संबद्ध कर और भी प्रभावी बनाने की दिशा में कार्य शुरू कर दिया गया है।

प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए कार्य योजना तैयार की जा रही है। सोशल मीडिया को सशक्त बनाया जा रहा है जिससे किसी भी पीडि़त की मदद की जा सके। उन्होंने बताया कि गाजियाबाद में डायल एफआईआर की शुरुआत की जा रही है। इसे पूरे प्रदेश में लागू किया जाना है। जिससे एफआईआर से संबंधित सभी समस्याओं का निदान होगा और मदद में सहायक होगी।

पुलिस महानिदेशक ने बताया कि अनुशासनहीनता और दुव्र्यवहार के मामले में 22 पुलिस जवानों को बर्खास्त कर दिया गया है। कार्य में पारदर्शिता लाने के लिए पुलिस ट्रेनिंग में एक नया पाठ्यक्रम भी लाया जा रहा है।

मोदी ने आयुष्मान भारत योजना की तैयारियों का जायजा लिया

उन्होंने कहा कि अपराधों की रोकथाम के लिए जिले में टॉप -10 और टॉप-15 की सूची बनाकर अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई होगी। टॉप-10 सूची का अनुमोदन पुलिस अधीक्षक और टॉप-15 अपराधियों की सूची का अनुमोदन उप पुलिस महानिरिक्षक स्तर के अधिकारी करेंगे।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.