संविधान और लोकतंत्र पर खतरे को पहचानने की जरूरत: गहलोत

Samachar Jagat | Thursday, 07 Feb 2019 05:08:27 PM
Need to recognize the danger on constitution and democracy: Gehlot

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को कहा कि आज मुल्क, संविधान और लोकतंत्र खतरे में है, इसे पहचाने की जरूरत है अगर इसे नहीं पहचाना तो हमको पछताना पड़ेगा।

गांधीवादी विचारक एस एन सुब्बाराव के 91वें जन्मदिवस पर आयोजित कार्यक्रम में गहलोत ने कहा, ‘‘आज देश में घृणा, नफरत, भय और भचता का खतरनाक माहौल है। उन्होंने कहा, ‘‘आज मुल्क खतरे में है, संविधान, लोकतंत्र खतरे में है। उसको पहचाने की आवश्यकता हम सबको है। अगर नहीं पहचानेंगे तो हमको पछताना पड़ेगा। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग सत्ता में आने और सत्ता में रहने के लिये गांधी के नाम का इस्तेमाल कर रहे हैं लेकिन गांधी की विचारधारा पर चलने को तैयार नहीं हैं। उन्होंने कहा, ‘‘वे बदले की भावना से राजनीति करते हैं। (देश में) भहसा का माहौल है लेकिन उसे रोकने का कोई प्रयास नहीं कर रहे हैं। गहलोत ने कहा कि कांग्रेस के कारण ही भारत ने आज दुनिया में विकसित राष्ट्र के रूप में पहचान बनाई है।  एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.