गोण्डा में श्रावन के पहले सोमवार को शिवालयों में उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब

Samachar Jagat | Monday, 30 Jul 2018 09:05:13 AM
On the first Monday of Shravan in Gonda, the pavilions of great pilgrims in the pavilions

गोण्डा। उत्तर प्रदेश में गोण्डा जिले के विभिन्न शिवालयो , शिव मंदिरो में श्रावन मास के प्रथम सोमवार को दूरदराज से आये महिला एवं पुरुष शिव भक्तो ने बड़ी संख्या में महादेव का जलाभिषेक कर श्रद्धाभाव से पूजा अर्चना की।

इस दौरान मंदिरो में हर हर महादेव , हर हर बम बम ,बम बम बोले , डमरू वाले का जयकारा लगाते हुए शिवभक्त नगर के मध्य स्थित पौराणिक बाबा दुख:हरण नाथ मंदिर ,खरगूपुर स्थित महाभारत कालीन पृथ्वी नाथ मंदिर , आदि शक्ति माँ दुर्गे फुलवारी सम्मय माता मंदिर ,नागा बाबा आश्रम में बने शिवालय ,खैरा भवानी मंदिर ,तिवारी बाबा शिव मंदिर और अन्य प्रमुख मंदिरो में भगवान देवाधिदेव महादेव के शिवभलग पर दुग्ध ,बेलपत्र , धतूरा , पुष्प , धूप , इत्र , गन्ना , कपूर व अन्य पूजन सामग्री से जलाभिषेक करने वाले श्रद्धालुओ का तांता भोर से लगा हुआ है।

हिन्दू धर्म की सभ्यता का परिचय देते हुये पंक्तिबद्ध होकर शिव भक्त कांवडिये बोल बम का नारा लगाते हुये शनै: शनै: मंदिर में भोले को पूजा कर रहे हैं।
दु:ख हरण नाथ मंदिर सेवा समिति के अध्यक्ष संदीप मेहरोत्रा ने बताया कि मान्यताओं के अनुसार , बाबा दु:ख हरण नाथ मंदिर त्रेतायुग से यहां विधमान है। कौशलपुर (अयोध्या)के चक्रवर्ती सम्राट राजा दशरथ के यहां भगवान विष्णु ने जब मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम चन्द्र के रूप में जब माता कौशल्या की कोख से जन्म लिया तत्पश्चात उनके बाल स्वरूप का पवित्र दर्शन के लिये महादेव देवाधिदेव भगवान शंकर साधू के भेष में अयोध्या आये और श्री राम के दिव्य बाल रूप का दर्शन कर स्वयं को वशीभूत किया।

महादेव ने कैलाश वापस लौटते समय दु:ख हरण नाथ मंदिर के स्थान पर विश्राम किया और लोगों का कष्ट हर उनके दु:ख दूर किये । तभी से बाबा दु:ख हरण नाथ की भपडी का दर्शन कर श्रद्धालू मनोकामना मांगते है।
उन्होंने बताया कि इसीप्रकार, खरगूपुर क्षेत्र में स्थित पृथ्वीनाथ मंदिर में करीब साढ़े पांच फुट काली कसौटी से निर्मित शिवभलग की स्थापना स्वयं अज्ञातवास के दौरान पांडव महाबली भीम ने की थी आज भी श्रद्धालू अर्धां पर एडी के बल चढक़र जलाभिषेक करते है । 

इस बीच पुलिस अधीक्षक लल्लन सिंह  ने बताया कि श्रावन मास में सभी प्रमुख मंदिरो में सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किये गये है। उन्होंने बताया कि कांवडियों, दर्शनार्थियों एव मेलार्थियो की भारी भीड़ देखते हुये पीएसी, क्विक रिस्पांस टीम , विशेष कार्य बल, पीआरडी, होमगार्ड, गुप्तचरों के साथ पुलिस के सादे कपड़ो में भी सचल दस्ते तैनात है।

इन्हे भोला, शिवा, उमा और अन्य कई कोडवर्ड के नामो से पुकारा जा रहा है। इसके साथ अन्य स्वयं सेवी संगठन भी नागरिक पुलिस की मदद में लगे है।  एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.