रमन सिंह बोले, बारूदी सुरंग सुरक्षा बलों के लिए चुनौती 

Samachar Jagat | Wednesday, 14 Mar 2018 11:48:45 AM
Raman Singh says, landmine challenge for security forces

रायपुर। नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई में बारूदी सुरंग सुरक्षा बलों के लिए एक चुनौती है और अगर इसे दूर कर लिया जाए तो यह पूरी लड़ाई सिर्फ 6 माह में खत्म की जा सकती है। यह कहना हैं छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह का कहना है कि छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नक्सली हमले में शहीद नौ जवानों को आज माना स्थित छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के चौथी बटालियन के मुख्यालय में श्रद्धांजलि दी गई।

मोदी ने हॉकिंग के निधन पर जताया दुख

मुख्यालय में मीडिया से बातचीत के दौरान सिंह ने कहा कि नक्सलियों को आमने सामने की लड़ाई में रोज खदेड़ा जा रहा है। लेकिन बारूदी सुरंग इस लड़ाई में चुनौती है। नक्सली सडक़ निर्माण के दौरान बारूदी सुरंग का इस्तेमाल करते हैं। बारूदी सुरगों का पता लगा पाना मुश्किल है।

यदि इस तकनीक की जानकारी मिल जाए तो हम नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई को छह महीने में  खत्म कर सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि जमीन में एक फीट के भीतर कहां बारूदी सुरंग है यह पता लगा पाना आज की तकनीक में संभव नहीं है। सुरक्षा बल के जवान गश्त के लिए और सडक़ निर्माण की सुरक्षा के लिए निकलते हैं, इस दौरान विस्फोट हो जाता है।

सिंह ने कहा कि बारूदी सुरंग की खोज की तकनीक के बारे में अभी तक जानकारी नहीं मिली है। लेकिन अब कुछ और आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि घटना किस्टाराम और पलोड़ी गांव के मध्य हुई है। पलोड़ी का शिविर नक्सलियों के गढ़ में बना हुआ  है।

इस शिविर के बनने से हमारी पहुंच नक्सली मुख्यालय के नजदीक तक हो गई है और यही उनकी बौखलाहट की वजह है। पहले जो नक्सली जिला मुख्यालय में  आक्रमण की सोचते थे, अब वह अपने घरों पर सिमट गए हैं। सिंह ने कहा कि सुरक्षा बल के जवान सबसे कठीन लड़ाई लड़़ रहे हैं।

सबसे मुश्किल काम है वहां रहना और वहां रहकर नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई करना। पूरी बहादुरी और हिम्मत के साथ सुरक्षा बल के जवान आगे बढ़ रहे हैं तथा नक्सली सभी मोर्चों में असफल हो रहे हैं। क्षेत्र में सडक़ों का जाल बिछाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जवानों का हौसला कम नहीं हुआ है।

ऐसी घटनाओं से हमारा या जवानों का मनोबल कम नहीं होगा। नई प्रतिज्ञा, विश्वास और जिद के साथ नक्सलियों को जवाब दिया जाएगा तथा उन्हें पूरी तरह से समाप्त किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सीमा पर जिस तरह हमारे जवान लड़ रहे हैं यह लड़ाई भी किसी दृष्टि से कम नहीं है। यह इससे भी बड़ी और कठीन लड़ाई है क्योंकि हम यहां अज्ञात के खिलाफ लड़ते हैं।

अनंत कुमार बोले, हाशिये पर जा रही है कांग्रेस 

इस दौरान रमन सिंह मंत्रिमंडल के सदस्य, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी, सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में मंगलवार को नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट कर एंटी लैंडमाइन व्हीकल को उड़ा दिया था। इस घटना में सीआरपीएफ के नौ जवान शहीद हो गए हैं और दो अन्य घायल हैं।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.