रिश्तों का खून: बेटे ने पहले अपने मां-बाप और फिर बहन को उतारा बेरहमी से मौत के घाट

Samachar Jagat | Thursday, 11 Oct 2018 10:56:01 AM
Accused arrested for murder of his parents and sister in Delhi

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में रिश्तों का खून करने वाला एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां एक व्यक्ति ने अपने ही मां-बाप और अपनी बहन को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया। मामला दक्षिण पश्चिम दिल्ली के किशनगढ़ इलाके का बताया जा रहा है। एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या के बाद इलाके में सनसनी फैली हुई है। बताया जा रहा है कि तीनों लोगों के शव बुधवार को उनके घर में पड़े हुए मिले थे। मामले की सूचना मिलने के बाद जाब्ते के साथ पहुंची पुलिस ने तीनों के शवों को अपने कब्जे में लेकर उन्हे पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया था।

शादी के बाद नहीं हो रही थी संतान तो दो देवरों ने तांत्रिक के कहने पर अपनी भाभी का किया ऐसा हाल, पढक़र उड़ जाएंगे आपके होश

वहीं पुलिस ने मौका-ए-वारदात पर तलाशी भी की। इसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की। बताया जा रहा है कि पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया है। मीडिया रिपोट्र्स से प्राप्त जानकारी के अनुसार दक्षिण पश्चिम दिल्ली के किशनगढ़ इलाके में बुधवार सुबह एक दंपती और उनकी बेटी के शव घर से बरामद किए गए। शवों पर चाकू के जख्म हैं। बाद में दंपती के बेटे को गिरफ्तार कर लिया गया।

शौच के लिए बाहर गई महिला को जबरन खेत में ले गए चार युवक और फिर खेला ये गंदा खेल

मीडिया रिपोट्र्स से प्राप्त जानकारी के अनुसार वारदात की जानकारी देते हुए पुलिस ने बताया है कि पीडि़तों पर चाकू से वार किए गए थे। वहीं उनके बेटे सूरज की उंगली में जख्म मिले। रिपोट्र्स के अनुसार उन्होंने बताया है कि घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस बुधवार को उनके घर पहुंची। मृतकों की शिनाख्त मिथलेश वर्मा (45), उनकी पत्नी सिया वर्मा (40) और उनकी बेटी नेहा (16) के तौर पर की गई है। मीडिया रिपोट्र्स से प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस ने बताया है कि हमले में इस्तेमाल हुए हथियार को बरामद कर लिया गया है और सूरज को गिरफ्तार कर लिया गया। मिथलेश वर्मा के बड़े भाई चंद्रभान ने बताया कि मिथलेश वर्मा अपने परिवार के साथ पिछले 18 वर्ष से रह रहे थे। उनका बेटा गुडगांव के एक निजी कॉलेज से सिविल इंजीनियरिंग कर रहा है वहीं उनकी बेटी वसंत कुंज के एक निजी स्कूल में कक्षा नौ की छात्रा थी। चंद्रभान ने बताया है कि मुझे कन्नौज में अपने परिजन से सुबह 5.30 फोन आया। मिथलेश के पड़ोसियों ने उन्हें सूचित किया था। मैं तत्काल वहां पहुंचा और उनके शवों को मैंने खून से सना पाया। उनके शरीर पर चाकुओं के निशान थे। मीडिया रिपोट्र्स से प्राप्त जानकारी के अनुसार मामले को लेकर एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि पूरे घर में तोड़ फोड़ की गई थी लेकिन कोई भी बहुमूल्य सामान लापता नहीं पाया गया।

महिला ने नहीं भरा मन तो उसकी 10 साल की बेटी पर बिगड़ी व्यक्ति की नियत और फिर...

मिथलेश वर्मा के रिश्तेदार शिव प्रताप ने कहा है कि उसने अपनी आंटी को जमीन पर खून से लथपथ पाया वहीं नेहा बेड पर थी जिसके शरीर पर चाकुओं के निशान थे। वर्मा के पड़ोसी ईश्वर लाल ने बताया है कि तडक़े उनकी पत्नी ने सूरज को मदद के लिए चिल्लाते सुना था। जब वे वहां पहुंचे तो उन्हें घटना के बारे में पता चला। उन्होंने देखा की सूरज घर के गेट के आगे बैठा रो रहा था। लाल ने दावा किया कि सूरज ने शुरूआत में एक अन्य पड़ोसी पिंटू से मदद मांगी थी जो अस्पताल से लौट रहा था। सूरज के चाचा चंद्रभान ने कहा कि 2013 में सूरज को कथिततौर पर अज्ञात लोगों ने अगवा कर लिया था जब वह पास के बाजार से किताबें खरीदने गया था।
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.