बागवानों का पैसा डकारने वाले 101 आढ़तियों पर एफईआर, चार गिरफ्तार

Samachar Jagat | Thursday, 07 Feb 2019 04:42:39 PM
 four arrests on 101 stalwarts who have looted the money of gardeners

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

शिमला। हिमाचल प्रदेश सरकार ने राज्य के बागवानों और किसानों का पैसा नहीं देने वाले 101 आढ़तियों के खिलाफ मामले दर्ज किए हैं जिनमें से चार को गिरफ्तार करने के अलावा 30 को भगोड़ा घोषित किया गया है। 


राज्य के कृषि मंत्री रामलाल मार्कण्डेय ने विधानसभा में आज प्रश्नकाल के दौरान माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी(माकपा) विधायक राकेश भसघा के एक प्रश्न के जवाब में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि छह भगोड़े आढ़तियों को वसूली के नोटिस जारी किये गये हैं और अगर वे बागवानों का पैसा नहीं देंगे तो उन्हें गिरफ्तार भी किया जा सकता है। मार्कण्डेय ने कहा कि इन बागवानों के आढ़तियों के पास दो करोड़ 15 लाख 75 हजार रूपए फंसे हैं। उन्होंने कहा कि इस रकम का 31 मार्च से पहले बागवानों को भुगतान कराने के सरकार प्रयास कर रही है। 

सिंघा ने सदन में अनुपूरक प्रश्न पूछते हुये सरकार से जानना चाहा कि इन आढ़तियों को अभी तक गिरफ्तार क्यों नहीं किया और क्या इनके साथ पुलिस की मिलीभगत है। इन आढ़तियों पर नकेल कसने के लिये सरकार क्या कदम उठा रही है। इस मार्कंडेय ने कहा कि ऐसे झोला छापा आढ़तियों पर अंकुश लगाने के लिए सरकार कानून लाने जा रही है। इस दौरान भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) विधायक बलबीर वर्मा ने किसानों की बकाया राशि को लेकर सरकार के आंकड़ों पर सवाल उठाते हुये कहा कि केवल उन्हीं के हलके के बागवानों के तीन करोड़ रुपए आढ़तियों के पास फंसे हुये हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य में ऐसे में भी आढ़ती सक्रिय हैं जो बाहरी राज्यों में ठेले पर सेब बेच रहे हैं। इस पर मंत्री ने कहा कि ये वे मामले हैं जिन पर बागवानों ने एफईआर दर्ज कराई है और ऐसे मामले मार्किभटग यार्ड में हुई खरीद फरोख्त से जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि मार्किटिंग यार्ड के बाहर भी सेब की खरीद हुई है और आढ़तियों ने बागवानों से सीधे ही सेब की खरीद की है। ऐसे बागवानों का पैसा भी आढ़तियों के पास फंसा हो सकता है। 
एजेंसी
 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.